करेंट अफेयर्स - मार्च, 2018

भारत बी ने देवधर ट्रॉफी क्रिकेट चैंपियनशिप 2018 जीती

चार बल्लेबाजों की अर्धशतकीय पारियों से भारत ‘बी’ ने विजय हजारे ट्रॉफी की चैंपियन कर्नाटक को छह विकेट से हराकर देवधर ट्रॉफी क्रिकेट चैंपियनशिप जीत ली है। बेहतरीन फार्म में चल रहे रविकुमार (107) के टूर्नामेंट में दूसरे शतक और सीएम गौतम के साथ पांचवें विकेट के लिए 132 रन की साझेदारी के बावजूद शीर्ष क्रम के दूसरे बल्लेबाजों के बीच में ही आउट होने की वजह से पहले बल्लेबाजी के लिये उतरी कर्नाटक की टीम आठ विकेट पर 279 रन ही बना पाई।
भारत ‘बी’ ने 48.2 ओवरों में चार विकेट पर 281 रन बनाकर जीत दर्ज की। उसकी तरफ से रूतुराज गायकवाड़ (58) और अभिमन्यु ईश्वरन (69) की सलामी जोड़ी ने पहले विकेट के लिये 84 रन जोड़े। इन दोनों के अलावा कप्तान श्रेयस अय्यर (61) और मनोज तिवारी (नाबाद 59) ने भी अर्धशतक जमाये। कर्नाटक ने विजय हजारे ट्रॉफी से अपना विजय अभियान जारी रखा था।

भारत बी के कप्तान: अंकित बावणे

कर्नाटक के कप्तान: करुण नायर

प्लेयर ऑफ़ दी मैच : रविकुमार समर्थ (कर्नाटक)

देवधर ट्रॉफी

देवधर ट्राफी (क्रिकेट) भारत की घरेलू क्रिकेट प्रतियोगिता है। देवधर ट्रॉफी घरेलू क्रिकेट में एक लिस्ट ए क्रिकेट प्रतियोगिता है। प्रो. डी. बी. देवधर (भारतीय क्रिकेट के ग्रैंड ओल्ड मैन के रूप में जाना जाता है) के नाम पर इसे रखा गया और एक 50 ओवर नॉक-आउट प्रतियोगिता 3 टीमों के बीच एक वार्षिक आधार पर खेली जाता है – इंडिया ए, इंडिया बी, विजय हज़ारे ट्रोफी का विजेता।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

प्रथम भारत-फ्रांसीसी ज्ञान शिखर सम्मेलन

प्रथम भारत-फ्रांसीसी ज्ञान शिखर सम्मेलन ‘दोनों देशों के बीच अकादमिक योग्यता की पारस्परिक मान्यता’ पर एक ऐतिहासिक समझौते और संयुक्त पहलों एवं साझेदारियों पर विश्वविद्यालयों और अनुसंधान संस्थानों के बीच रिकॉर्ड 15 अन्य समझौता ज्ञापनों (एमओयू) के साथ सफलतापूर्वक संपन्‍न हुआ । दो दिवसीय शिखर सम्मेलन नई दिल्ली में आयोजित किया गया और इसका आयोजन संयोगवश फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों की आधिकारिक भारत यात्रा के दौरान ही हुआ।

मुख्य तथ्य

-शिखर सम्मेलन का व्यापक उद्देश्य कंपनियों के सहयोग से अगले पांच वर्षों के लिए फ्रैंको-इंडिया सहयोग का रोडमैप तैयार करना था। साथ ही छात्रो की गतिशीलता बढ़ाने के लिए सामान्य मंच , रोजगार विस्तार पर ध्यान केंद्रित करके अनुसंधान एवं विकास सहयोग तथा कंपनियों को लिंक परिसरों में विस्तार लाना था

-शिखर सम्मेलन में करीब 80 भारतीय संस्थानों और 350 प्रमुख संस्थाओं के साथ 70 फ्रांसीसी संस्थानों में से अधिक लोगो ने भाग लिया । इसे विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, कैंपस फ्रांस और भारतीय उद्योग संघ (सीआईआई) का भी समर्थन मिला ।

-यह दोनों देशों के बीच शैक्षणिक योग्यता की पारस्परिक मान्यता पर एक ऐतिहासिक समझौते के साथ ही इसका समापन हुआ संयुक्त पहल और साझेदारी पर विश्वविद्यालयों और अनुसंधान संस्थानों के बीच 15 अन्य एमओयू तैयार किए गए।

-इस दौरान, दोनों टी देशों के आपसी हित से जुड़े कई विषयों पर गोल मेज और विभिन्न सत्रों को आयोजित किया गया | जिसमें एयरोस्पेस, कृषि और खाद्य प्रसंस्करण, पर्यावरण-ऊर्जा, गणित और सूचना प्रौद्योगिकी शामिल थे,

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement