करेंट अफेयर्स- नवंबर, 2018

कोंकण 18: भारत और यूनाइटेड किंगडम के बीच गोवा में किया जा रहा नौसैनिक युद्ध अभ्यास का आयोजन

भारत और यूनाइटेड किंगडम के बीच नौसैनिक युद्ध अभ्यास का आयोजन गोवा में किया जा रहा है। यह नौसैनिक युद्ध अभ्यास 28 नवम्बर से 6 दिसम्बर, 2018 के दौरान आयोजित किया जायेगा। इस युद्ध अभ्यास का बंदरगाह चरण 28 से 30 नवम्बर, 2018 के दौरान आयोजित किया गया, जबकि इसके बाद समुद्री चरण का आयोजन 2 से 6 दिसम्बर, 2018 के दौरान किया जायेगा।

मुख्य बिंदु

इस युद्ध अभ्यास में रॉयल नेवी का प्रतिनिधित्व टाइप-45 श्रेणी के डिस्ट्रॉयर HMS ड्रैगन तथा वाइल्डकैट हेलीकाप्टर द्वारा किया जा रहा है। जबकि भारतीय नौसेना का प्रतिनिधित्व कलकत्ता श्रेणी के डिस्ट्रॉयर आईएनएस कलकत्ता द्वारा किया जा रहा है, इसमें सीकिंग तथा समुद्री गश्ती वायुयान डोर्निएर भी शामिल है। इस युद्ध अभ्यास का उद्देश्य हवाई युद्ध रोधी, पनडुब्बी रोधी तथा सतह युद्ध रोधी स्थितियों के लिए अभ्यास करना है। इसके अलावा कई खेल गतिविधियों तथा परिचर्चा का आयोजन भी किया जायेगा।

पृष्ठभूमि

भारत और यूनाइटेड किंगडम के बीच नौसैनिक सहयोग दीर्घकालीन सामरिक संबंधों पर आधारित है। पिछले कुछ वर्षों के दौरान दोनों नौसेनाओं ने बीच कई प्रशिक्षण कार्यक्रम तथा तकनीकी सहयोग के लिए कार्यक्रम आयोजित किये गये हैं। द्विपक्षीय अभ्यास कोंकण की शुरुआत वर्ष 2004 में हुई थी। इस युद्ध अभ्यास के द्वारा दोनों देशों की नौसेनाओं को सागर तथा बंदरगाह पर इंटरओपेराबिलिटी विकसित करने तथा अपने अनुभव साझा करने का अवसर मिलता है।

इस युधाभ्यास का उद्देश्य एक-दूसरे के अनुभव से लाभान्वित होना है तथा सैन्य सहयोग में वृद्धि करना है। पिछले कई वर्षों से किये गये अभ्यास से दोनों देशों की नौसेनाएं लाभान्वित हुई हैं।

Categories:

Month:

नई दिल्ली में किया गया दक्षिण एशिया युवा शांति फोरम का आयोजन

हाल में नई दिल्ली में तीन दिवसीय दक्षिण एशिया क्षेत्रीय युवा शांति सम्मेलन का आयोजन किया गया, इस सम्मेलन का आयोजन महात्मा गाँधी की 150वीं जयंती के अवसर पर किया गया। इसका आयोजन गाँधी समृति व दर्शन समिति, यूनेस्को महात्मा गाँधी शिक्षा, ,शांति व सतत विकास संस्थान (MGIEP) तथा STEP (Standing Together to Enable Peace) द्वारा मिलकर किया गया। इस सम्मेलन का उद्घाटन महात्मा गाँधी के पड़पोते कृष्णा जी. कुलकर्णी द्वारा किया गया था।

दक्षिण एशिया युवा शांति फोरम

इसका उद्देश्य सभी छोटे-बड़े मुद्दों पर विचार-विमर्श, सामान्य चुनौतियों को चिन्हित करना, एक्शन प्लान तैयार करना तथा युवा नेताओं का एक नेटवर्क बनाना है। इस फोरम के द्वारा युवा नेताओं को शांति, शिक्षा इत्यादि पर आधारित  कौशल प्रदान करना है।

इस फोरम में दक्षिण एशिया के युवाओं को क्षेत्र में शांति को बढ़ावा देने के लिए प्लेटफार्म उपलब्ध करवाया गया। इस दक्षिण एशिया तथा भारत के विभिन्न हिस्सों से लगभग 100 युवा नेताओं ने हिस्सा लिया तथा शांति के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की। इस सम्मेलन में अफ़ग़ानिस्तान, बांग्लादेश, मालदीव, भूटान, नेपाल और श्रीलंका के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। इस सम्मेलन में खाद्य सुरक्षा, धार्मिक सद्भाव, डिजिटल मीडिया, कला तथा लोकतंत्र इत्यादि पर चर्चा की गयी।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement