करेंट अफेयर्स- नवंबर, 2018

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरु नानक देव की 550वीं जयंती समारोह के लिए की राष्ट्रीय क्रियान्वयन समिति का गठन किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरु नानक देव की 550वीं जयंती समारोह के लिए की राष्ट्रीय क्रियान्वयन समिति का गठन किया। इस समिति का गठन केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में किया गया है। केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली तथा राज्य संस्कृति मंत्री डॉ. महेश शर्मा इस समिति के सदस्य हैं।

मुख्य बिंदु

केन्द्र सरकार ने गुरु नानक देव की 550वीं जयंती को राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मनाने के फैसला लिया है। इस उत्सव में विभिन्न किस्म की गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। इसके अतिरिक्त कीर्तन, प्रभात फेरी, कथा, लंगर जैसी धार्मिक गतिविधियों का आयोजन किया जायेगा। इसके अलवा कई शैक्षणिक गतिविधियों जैसे सेमिनार, कार्यशाला तथा भाषण इत्यादि का आयोजन किया जायेगा। इस इवेंट में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति नॉलेज पार्टनर होगी।

सरकार पंजाब में सुल्तानपुर लोधी का विकास भी करेगी, इस स्थान पर गुरु नानक देव ने अपने जीवन का एक बड़ा हिस्सा व्यतीत किया। इस शहर को विरासत शहर (पिंड बाबे नानक दा) के रूप में स्थापित किया जाएगा। इस स्थान पर एक उच्च क्षमता युक्त टेलिस्कोप भी स्थापित किया जायेगा, इस टेलिस्कोप की सहायता से पाकिस्तान में करतारपुर साहिब को देखा जा सकेगा, करतारपुर साहिब में गुरु नानक देव ने अपने जीवन का अंतिम समय व्यतीत किया। इस इवेंट के उपलक्ष्य आर्थिक मामले विभाग, वित्त मंत्रालय तथा डाक विभाग गुरु नानक देव की स्मृति में सिक्के तथा पोस्टल स्टैम्प भी जारी करेंगे।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

IIT हैदराबाद के अनुसंधानकर्ताओं ने दूध में मिलावट का पता लगाने के लिए किया स्मार्टफ़ोन-बेस्ड सिस्टम का विकास

IIT हैदराबाद के अनुसंधानकर्ताओं ने दूध में मिलावट का पता लगाने के लिए स्मार्टफ़ोन-बेस्ड सिस्टम का विकास किया। इस सिस्टम में इंडिकेटर पेपर के द्वारा दूध में अमलता के स्तर का पता लगाया जा सकता है। अनुसंधानकर्ताओं ने अल्गोरिथम का विकास किया है, स्मार्टफ़ोन में इसका इस्तेमाल करके दूध की अमलता का पता लगाया जा सकता है। सेंसर-चिप की सहायता से pH स्तर का पता लगाया जाता है।

मुख्य बिंदु

दूध में मिलावट का पता लगाने के लिए अनुसंधानकर्ताओं ने “इलेक्ट्रोस्पिनिंग” प्रक्रिया का उपयोग किया गया है। इसके लिए पेपर की तरह पदार्थ का उपयोग किया किया जाता है, यह नायलॉन के नैनो आकार के रेशे से बना होता है। यह कागज़ हेलोक्रोमिक होता है अर्थात अमलता में परिवर्तन होने से इसके रंग में भी परिवर्तन होता है।
अनुसंधानकर्ताओं ने स्मार्ट-फ़ोन बेस्ड अल्गोरिथम का प्रोटोटाइप विकसित किया है, दूध में डुबोने के बाद कलर स्ट्रिप्स का चित्र फ़ोन के कैमरा द्वारा लिया जाता है और इस डाटा को pH रेंज में बदला जाता है। इस सिस्टम की शुद्धता 99.71% है।

पृष्ठभूमि

पशु कल्याण बोर्ड द्वारा जारी एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार देश में 68.7% दूध तथा इससे बने उत्पादों में मिलावट की जाती है, इसमें डिटर्जेंट, ग्लूकोस, यूरिया, कास्टिक सोडा, सफ़ेद पेंट इत्यादि द्वारा मिलावट की जाती है। इसमें फोर्मलिन, बोरिक अम्ल, हाइड्रोजन पेरोक्साइड तथा एंटीबायोटिक्स जैसे रसायनों का उपयोग भी किया जाता है। मिलावटी दूध तथा दुग्ध उत्पादों के नियमित सेवन से ह्रदय रोग (जैसे उच्च व निम्न रक्तचाप, कार्डियक एरिथिमिया, प्रीमैच्योर वेंट्रिकुलर संकुचन) किडनी रोग, कैंसर, त्वचा रोग इत्यादि हो सकते हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement