करेंट अफेयर्स- अक्तूबर, 2018

ईज ऑफ़ डूइंग बिज़नेस में भारत पहुंचा 77वें स्थान पर : विश्व बैंक रिपोर्ट

विश्व बैंक ने हाल ही में ईज ऑफ़ डूइंग बिज़नेस के सम्बन्ध में रिपोर्ट जारी की, इस रिपोर्ट में भारत 23 पायदान की छलांग लगाकर 77वें स्थान पर पहुँच गया है। इस रैंकिंग के लिए व्यापार शुरू करने, ऋण प्राप्त करने, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार इत्यादि 10 मानकों पर देशों को रैंकिंग प्रदान की जाती है।

मुख्य बिंदु

इस रिपोर्ट में भारत को सबसे अधिक इम्प्रूवमेंट करने वाले टॉप 10 देशों की सूची में शामिल किया गया है। इस सूची में भारत एक मात्र बड़ी अर्थव्यवस्था है। पिछले दो वर्षों में ही भारत की रैंकिंग में 53 पायदान का सुधार हुआ है, जबकि पिछले 4 वर्षों में भारत की रैंकिंग में 65 पायदानों का सुधार हुआ है। इस रैंकिंग से ज़ाहिर होता है कि व्यापारिक गतिविधियों के लिए अंतर्राष्ट्रीय पैमानों के मुताबिक देश में माहौल कितना अनुकूल है। इस सूची में भारत के पडोसी देशों की रैंकिंग इस प्रकार है : भूटान (81), श्रीलंका (100), नेपाल (110), मालदीव (139), पाकिस्तान (136), अफ़ग़ानिस्तान (167) तथा बांग्लादेश (176)।

विश्व बैंक की ईज ऑफ़ डूइंग बिज़नेस में टॉप 10 देश हैं : न्यूजीलैंड, सिंगापुर, डेनमार्क, हांगकांग, चीन, कोरिया गणराज्य, जॉर्जिया, नॉर्वे, अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम तथा मकदूनिया।

विश्व बैंक

विश्व बैंक का मुख्यालय वाशिंगटन डी. सी. में है। इसके अध्यक्ष जिम योंग किम है। इसकी स्थापना जुलाई, 1945 को हुई थी। विश्व बैंक ऋण देने वाली एक ऐसी संस्था है जिसका उद्देश्य विभिन्न देशों की अर्थव्यवस्थाओं को एक व्यापक विश्व अर्थव्यवस्था में शामिल करना और विकासशील देशों में ग़रीबी उन्मूलन के प्रयास करना है।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

अग्नि 1 बैलिस्टिक मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया

हाल ही में अग्नि 1 बैलिस्टिक मिसाइल का रात्री में सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया। इस मिसाइल की मारक रेंज 700 किलोमीटर है। इस मिसाइल का परीक्षण ओडिशा के तट पर किया गया। यह सतह-से-सतह मार कर सकने वाली मिसाइल है। इसका परीक्षण डॉ. अब्दुल कलाम द्वीप पर किया गया।

मुख्य बिंदु

यह सतह-से-सतह मार कर सकने वाली मिसाइल है। इसका ट्रायल रात्री में भारतीय थलसेना के लिए किया गया है। अग्नि -1 मिसाइल में अत्याधुनिक नेविगेशन सिस्टम का उपयोग किया गया है, जिसकी सहायता से यह मिसाइल अपने लक्ष्य को सटीकता से ध्वस्त कर सकती है। इस मिसाइल का भार 12 टन है, यह मिसाइल 15 मीटर लम्बी है। यह मिसाइल 1000 किलोग्राम का पेलोड ले जाने में सक्षम है।

इस मिसाइल का विकास रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन (DRDO) की एडवांस्ड सिस्टम्स लेबोरेटरी द्वारा रक्षा अनुसन्धान व विकास प्रयोगशाला (DRDL) तथा इमारत अनुसन्धान केंद्र (RCI) के सहयोग से किया गया है, इस मिसाइल का एकीकरण भारत डायनामिक्स लिमिटेड, हैदराबाद द्वारा किया गया है। हालांकि इस मिसाइल का परीक्षण कई बार किया जा चुका है, परन्तु रात्री में यह इसका केवल दूसरा परीक्षण है, इससे पहले अग्नि-1 मिसाइल का रात्री परीक्षण 12 अप्रैल, 2014 को किया गया था।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement