करेंट अफेयर्स- अक्तूबर, 2018

31 अक्टूबर : राष्ट्रीय एकता दिवस

भारत में 31 अक्टूबर को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है, 31 अक्टूबर को महान स्वतंत्रता सेनानी तथा देश को एकजुट करने वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल का जन्म दिवस है। देश के एकीकरण में उनके योगदान के लिए 31 अक्टूबर को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

राष्ट्रीय एकता दिवस

राष्ट्रीय एकता दिवस की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 2014 को की गयी थी, इसका उद्देश्य सरदार वल्लभ भाई पटेल को उनके योगदान के लिए उन्हें सम्मान देना है। स्वतंत्रता के बाद 550 से अधिक देशी रियासतों के एकीकरण में उनकी भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण थी। हैदराबाद को भारत में शामिल करने में उनकी भूमिका काफी अहम थी। उन्हें भारत का लौह पुरुष  तथा भारत का बिस्मार्क भी कहा जाता है। राष्ट्रीय एकता दिवस पर “रन फॉर यूनिटी” नामक मैराथन का आयोजन भी किया जाता है।

सरदार वल्लभ भाई पटेल

सरदार वल्लभ भाई पटेल का जन्म 31 अक्टूबर, 1875 को हुआ था, वे भारत के पहले उप-प्रधानमंत्री तथा गृहमंत्री थे। वे एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे। स्वतंत्रता के बाद देशी रियासतों के एकीकरण में उनकी भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण थी। हैदराबाद को भारत में शामिल करने में उनकी भूमिका काफी अहम थी। वे 15 अगस्त, 1947 से लेकर 15 दिसम्बर, 1950 तक देश के पहले गृह मंत्री तथा उप-प्रधानमंत्री रहे। उनकी मृत्यु 15 दिसम्बर, 1950 को हुई थी।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया विश्व की सबसे बड़ी प्रतिमा “स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी” का अनावरण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 31 अक्टूबर, 2018 को सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के अवसर पर गुजरात में “स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी” का अनावरण किया और इसे देश को समर्पित किया। यह विश्व की सबसे ऊँची प्रतिमा है।

मुख्य बिंदु

  1. यह “स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी” देश के पहले गृहमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा है।
  2. इस प्रतिमा के निर्माण में 2900 करोड़ रुपये की लागत आई है।
  3. “स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी” विश्व की सबसे बड़ी प्रतिमा है, इसकी ऊंचाई 182 मीटर है। अमेरिका की “स्टैच्यू ऑफ़ लिबर्टी” की ऊंचाई 93 मीटर है।
  4. सरदार वल्लभ भाई पटेल के जन्म दिवस (31 अक्टूबर) को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है।
  5. “स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी” की आधारशिला नरेन्द्र मोदी ने 31 अक्टूबर, 2013 को रखी थी, उस समय नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे।

सरदार वल्लभ भाई पटेल

सरदार वल्लभ भाई पटेल का जन्म 31 अक्टूबर, 1875 को हुआ था, वे भारत के पहले उप-प्रधानमंत्री तथा गृहमंत्री थे। वे एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे। स्वतंत्रता के बाद देशी रियासतों के एकीकरण में उनकी भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण थी। हैदराबाद को भारत में शामिल करने में उनकी भूमिका काफी अहम थी। उनकी मृत्यु 15 दिसम्बर, 1950 को हुई थी।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement