करेंट अफेयर्स- अक्तूबर, 2019

महाराष्ट्र के विधानसभा चुनावों के परिणाम

24 अक्टूबर, 2019 को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 के परिणामों की घोषणा की गयी। इन चुनावों में भारतीय जनता पार्टी सबसे बड़े दल के रूप में उभरी है।

परिणाम के मुख्य बिंदु

भारतीय जनता पार्टी को चुनाव में 105 सीटें प्राप्त हुई। भाजपा के सहयोगी दल शिवसेना को 56 सीटें प्राप्त हुई। अतः महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना के गठबंधन की सरकार बनने के आसार हैं, परन्तु अभी मुख्यमंत्री पद को लेकर असमंजस बरकरार है।

चुनावों में एनसीपी को 54 सीटें प्राप्त हुई हैं, जबकि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को 44 सीटें प्राप्त हुई हैं। एमएनएस को एक सीट प्राप्त हुई है, जबकि अन्य दलों को 28 सीटें प्राप्त हुई हैं।

महाराष्ट्र में विधानसभा की कुल 288 सीटें हैं, इसमें 234 सीटें सामान्य वर्ग, 29 सीटें अनुसूचित जाती तथा 25 सीटें अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हैं। महाराष्ट्र में कुल 8,94,46,211 पंजीकृत मतदाता हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , , , , , ,

भारत और पाकिस्तान ने करतारपुर कॉरिडोर समझौते पर हस्ताक्षर किये

24 अक्टूबर, 2019 को भारत और पाकिस्तान ने करतारपुर कॉरिडोर समझौते पर हस्ताक्षर किये। इस दौरान विदेश मंत्रालय, रक्षा मंत्रालय, गृह मंत्रालय तथा पंजाब सरकार के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

करतारपुर कॉरिडोर

इस कॉरिडोर से भारत से गुरुद्वारा दरबार साहिब कर्तापुर की यात्रा करने वाले यात्रियों को सुगमता होगी। इसका प्रस्ताव सर्वप्रथम श्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा 1999 में रखा गया था। यदि इसे दोनों ओर से जोड़ा जाये तो धार्मिक पर्यटन में काफी वृद्धि होगी।

इस कॉरिडोर का निर्माण केंद्र सरकार द्वारा प्रदान किये गये फंड्स से किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त पाकिस्तान को भी सिख समुदाय की धार्मिक भावनाओं को मध्य नज़र रखते हुए, अपने क्षेत्र में कॉरिडोर का निर्माण करने के लिए भी कहा गया था।

करतारपुर साहिब पाकिस्तान में स्थित है, यह भारत के डेरा बाबा नानक श्राइन से 4 किलोमीटर दूर स्थित है। इस कॉरिडोर के द्वारा डेरा बाबा नानक श्राइन तथा करतारपुर साहिब को जोड़ा जायेगा।

गुरुद्वारा दरबार साहिब

यह 16वीं शताब्दी का गुरुद्वारा पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के नारोवल जिले में स्थित है। यह पाकिस्तान के पंजाब में भारत-पाक सीमा से 3-4 किलोमीटर दूर स्थित है। इसकी स्थापना सिख धर्म के पहले गुरु द्वारा 1522 में की गयी थी। यह गुरुद्वारा सिख समुदाय के लिए काफी महत्वपूर्ण है, गुरु नानक देव ने इस स्थान पर सिख समुदाय को एकत्रित किया, वे इस स्थान पर 18 वर्षों तक रहे।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement