करेंट अफेयर्स- अक्तूबर, 2019

स्विट्ज़रलैंड के ग्लेशियर 10% सिंकुड़े : अध्ययन

पिछले पांच वर्षों में स्विट्ज़रलैंड के ग्लेशियर 10% सिंकुड़ चुके हैं। स्विस अकैडमी ऑफ़ साइंसेज में क्रायोस्फेरिक कमीशन ने ग्लेशियरों की स्थिति पर वार्षिक रिपोर्ट प्रकाशित की है। इस रिपोर्ट के मुताबिक लगभग 20 ग्लेशियरों में पिघलने की दर रिकॉर्ड स्तर पर पहुँच चुकी है।

अध्ययन के मुख्य बिंदु

  • अप्रैल तथा मई में ग्लेशियर में बर्फ की चादर सामान्य स्तर से 20 से 40% अधिक थी, इसकी गहराई 6 मीटर थी।
  • जून तथा जुलाई के अंत में स्विट्ज़रलैंड की वार्षिक पेयजल उपभोग आवश्यकता के बराबर बर्फ पिघल चुकी थी।
  • हालांकि स्नो कवर में वृद्धि हुई है लेकिन बर्फ के पिघलने की दर भी काफी अधिक बढ़ी है। पिछले 12 माह में अधिक बर्फबार के बावजूद भी स्विट्ज़रलैंड के ग्लेशियर का 2% हिस्सा पिघल चुका है।
  • पिछले 5 वर्षों में पिघलने की दर में 10% की वृद्धि हुई है।

स्विट्ज़रलैंड के ग्लेशियर

स्विट्ज़रलैंड में 500 से अधिक ग्लेशियर हैं। स्विट्ज़रलैंड में ग्लेशियरों के पिघलने के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए कई प्रकार के अभियानों का आयोजन किया जा रहा है। हाल ही में पिजोल ग्लेशियर के समाप्त होने पर ‘फ्यूनरल मार्च’ का आयोजन किया गया था।

यदि ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को नहीं रोका गया तो इस सदी के अंत तक ऐल्प्स से 4000 से अधिक ग्लेशियर समाप्त हो सकते हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

संयुक्त अरब अमीरात में की जायेगी विश्व के पहले आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस विश्वविद्यालय की स्थापना

संयुक्त अरब अमीरात ने विश्व के पहले आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस विश्वविद्यालय की स्थापना की घोषणा की है। यह विश्वविद्यालय ग्रेजुएट स्तर का होगा। इस विश्वविद्यालय का नाम ‘मोहम्मद बिन ज़ायेद युनिवर्सिटी ऑफ़ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस’ (MBZUAI)  रखा जायेगा। इस विश्वविद्यालय का नाम अबू धाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन ज़ायेद अल नाहयान के नाम पर रखा गया है। इस विश्वविद्यालय का कैंपस मसदर सिटी में होगा।

इस विश्वविद्यालय के लिए वेबसाइट द्वारा आवेदन किया जा सकता है, इसका पंजीकरण अगस्त, 2020 में शुरू होगा। ग्रेजुएट छात्रों के पहले बैच का अध्ययन सितम्बर, 2020 में शुरू होगा।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI)

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (कृत्रिम बुद्धि) कंप्यूटर साइंस की वह शाखा है जिसके द्वारा मशीनों में इंसानों की तरह सोचने समझने की क्षमता विकसित की जाती है। AI मशीने वातावरण के अनुसार खुद को ढालने में सक्षम होती हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement