करेंट अफेयर्स – सितंबर, 2019

लघु ग्रह का नाम पंडित जसराज के नाम पर रखा गया

अंतर्राष्ट्रीय खगोलीय संघ (IAU) ने हाल ही में मंगल और बृहस्पति ग्रह के बीच एक लघु ग्रह का नाम भारतीय शास्त्रीय संगीतज्ञ पंडित जसराज के नाम पर रखा है। वे यह सम्मान प्राप्त करने वाले पहले भारतीय संगीतकार हैं। इस ग्रह की खोज 11 नवम्बर, 2006 को हुई थी।

इन लघु ग्रहों को अंतर्राष्ट्रीय खगोलीय संघ द्वारा स्थानीय अंक दिए जाते हैं, पंडित जसराज ग्रह को 300128 अंक दिया गया है, यह उनकी जन्म तिथि 28-01-30 का उल्टा है।

पंडित जसराज

पंडित जसराज को कई पुरस्कार, उपाधियाँ व सम्मान दिए गये हैं। उन्हें पद्म विभूषण तथा संगीत नाटक अकादमी से सम्मानित किया गया है। वे मेवाती घराने से ताल्लुक रखते हैं।

क्षुद्रग्रह

लघु ग्रहों को क्षुद्रग्रह भी कहा जाता है। मंगल तथा बृहस्पति ग्रह के बीच क्षुद्रग्रहों की चार बेल्ट हैं, इन्हें सेरेस, वेस्ता, पलास तथा हायजिया नाम दिया गया है।

अंतर्राष्ट्रीय खगोलीय संघ (IAU)

अंतर्राष्ट्रीय खगोलीय संघ (IAU) की स्थापना 1919 में की गयी थी। इसका उद्देश्य खगोलीय विज्ञान को बढ़ावा देना है। अंतर्राष्ट्रीय खगोलीय संघ की महासभा की बैठक तीन वर्ष में एक बार की जाती है। पिछली बार इसकी बैठक का आयोजन ऑस्ट्रिया के विएना में 2018 में किया गया था। अगली बार IAU की बैटक का आयोजन 2021 में दक्षिण कोरिया के बुसान में किया जायेगा।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

पश्चिम बंगाल का मिदनापुर बना वाई-फाई युक्त 5000वां रेलवे स्टेशन

पश्चिम बंगाल का मिदनापुर रेलवे स्टेशन वाई-फाई युक्त 5000वां रेलवे स्टेशन बन गया है। रेलटेल के अनुसार रेलवायर वाई-फाई विश्व का सबसे बड़ा सार्वजनिक वाई-फाई है।

रेल वायर (RailWire)

रेलवायर रेलटेल की रिटेल ब्रॉडबैंड पहल है। इसका उद्देश्य जनता तक ब्रॉडबैंड को पहुँचाना है। रेलटेल एक वर्ष के भीतर देश में सभी रेलवे स्टेशन में तेज़ और निशुल्क WiFi सुविधा प्रदान करने पर काम कर रहा है। रेलटेल से 985 रेलवे स्टेशन में अपनी फंडिंग से तेज़ Wi-Fi की सुविधा प्रदान की है। A, A1 तथा C श्रेणी के 415 रेलवे स्टेशन पर गूगल के सहयोग से Wi-Fi सुविधा की स्थापना की गयी है। 200 रेलवे  स्टेशनों पर Wi-Fi सुविधा भारत सरकार के यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेटरी फण्ड की सहायता से प्रदान की गयी है।

यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फण्ड

यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फण्ड की स्थापना भारत सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में कनेक्टिविटी को बढ़ावा देने के लिए की थी। इस फण्ड के लिए धन टेलिकॉम ऑपरेटरों पर लगाए जाने “यूनिवर्सल एक्सेस लेवी” नामक शुल्क से प्राप्त होता है।

रेलटेल (RailTel)

रेलतटेल कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया लिमिटेड भारत सरकार के अधीन एक मिनीरत्न सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम है। यह देश के सबसे बड़े टेलिकॉम इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रदाताओं में से एक है, इसमें पास देश भर में फैला हुआ ऑप्टिक फाइबर नेटवर्क है।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , ,

Advertisement