करेंट अफेयर्स एवं हिन्दी समाचार सारांश

अमेरिका में छात्र भेजने के मामले में भारत दूसरे स्थान पर : रिपोर्ट

हाल ही में ‘2019 Open Doors Report on International Educational Exchange’ नामक रिपोर्ट जारी की गयी, इस रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका में छात्र भेजने के मामले में भारत दूसरे स्थान पर है। भारत लगातार 10वें स्थान इस सूची में दूसरे स्थान पर रहा है। इसी वर्ष भारत से लगभग 2,02,000 छात्र पढ़ाई के लिए अमेरिका गये। अमेरिका में चीन से सर्वाधिक छात्र पढ़ाई करने के लिए जाते हैं।

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु

  • 2019 में अमेरिका में अंतर्राष्ट्रीय छात्रों की संख्या 10,95,299 है। 2018 के मुकाबले छात्रों की संख्या में 0.05% की वृद्धि हुई है।
  • अमेरिका में उच्च शिक्षा प्राप्त करने वाले छात्रों में 5.5% अंतर्राष्ट्रीय छात्र हैं। इसमें भारत और चीन की हिस्सेदारी 50% से अधिक है।
  • अमेरिका में अंतर्राष्ट्रीय छात्रों के अन्य प्रमुख स्त्रोत देश हैं : दक्षिण कोरिया (52,250), सऊदी अरब (37,080) तथा कनाडा (26,122) ।
  • पाकिस्तान, बांग्लादेश, नाइजीरिया और ब्राज़ील से अमेरिका जाने वाले छात्रों की संख्या में भी वृद्धि हुई है।
  • अमेरिकी छात्रों के लिए उच्च अध्ययन के लिए यूरोप पसंदीदा जगह है। 54.9% अमेरिकी छात्र उच्च अध्ययन के लिए यूरोप को चुनते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

भारत ने संयुक्त अरब अमीरात के नागरिकों के लिए वीज़ा-ऑन-अराइवल की सुविधा शुरू की

भारत ने संयुक्त अरब अमीरात के नागरिकों के लिए वीज़ा-ऑन-अराइवल की सुविधा शुरू कर दी है। इसका उद्देश्य भारत और संयुक्त अरब अमीरात के बीच संबंधों को मज़बूत करना है।

मुख्य बिंदु

संयुक्त अरब अमीरात के नागरिकों के लिए वीज़ा-ऑन-अराइवल की सुविधा दो महीने की अवधि के लिए उपलब्ध होगी। यह सुविधा 16 नवम्बर, 2019 से शुरू हो गयी है। यह सुविधा 6 अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डों पर उपलब्ध है, यह हवाईअड्डे हैं : दिल्ली, मुंबई, बंगलुरु, चेन्नई, हैदराबाद और कलकत्ता।

योग्यता

यह वीज़ा संयुक्त अरब अमीरात के उन नागरिकों के लिए  उपलब्ध है जिन्होंने इससे पहले भारत के लिए ई-वीज़ा अथवा पेपर वीजा हासिल किया है। पहली बार भारत की यात्रा करने वाले नागरिकों को ई-वीज़ा अत्ज्वा सामान्य वीज़ा के लिए आवेदन करने की सलाह दी गयी है। पाकिस्तानी मूल के संयुक्त अरब अमीरात के नागरिक इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते।

नोट : भारत ने जापान और दक्षिण कोरिया के नागरिकों को वीज़ा-ऑन-अराइवल की सुविधा उपलब्ध करवाई है। जबकि ई-वीज़ा की सुविधा भारत ने 170 देशों के नागरिकों के लिए उपलब्ध करवाई है।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement