करेंट अफेयर्स एवं हिन्दी समाचार सारांश

सरकार ने स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप का शुभारंभ किया

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के साथ मिलकर स्वच्छ भारत अभियान के आयोजक और समन्वयक पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय ने ‘स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप (SBSI), 2018’ की पहल की है, जिसका उद्देश्य कॉलेज के युवाओं को गर्मियों की छुट्टियों के दौरान गाँवों में स्वच्छता से जुड़े कार्यों से जोड़ना है।

मुख्य तथ्य

-2 अक्तूबर, 2014 को यह प्रधानमंत्री द्वारा किये गए आह्वान के अनुरूप है।
-स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप का उद्देश्य देश भर के लाखों शिक्षित युवाओं में स्वच्छता क्षेत्र के लिये कौशल विकसित करना, जन-जागरूकता का प्रसार और स्वच्छ भारत अभियान के लिये जनांदोलन को मज़बूती प्रदान करना है।
-स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप की शर्तों के अंतर्गत हर अभ्यर्थी को गाँवों और उनके आसपास के इलाकों में श्रमदान, स्वच्छता बुनियादी ढाँचा तैयार करने, व्यवस्था बनाने, व्यवहारगत बदलाव के लिये अभियान और अन्य आईईसी पहलों सहित विभिन्न गतिविधियों पर 100 घंटों तक काम करने की ज़रूरत होगी।
-स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप के दिशा-निर्देशों को उच्च शिक्षा विभाग के साथ परामर्श से तैयार किया जा रहा है। सर्वश्रेष्ठ इंटर्नशिप को कॉलेज, महाविद्यालय, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता दी जाएगी।
-स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप को पूरा करने वाले हर इंटर्न को स्वच्छ भारत अभियान द्वारा एक इंटर्नशिप प्रमाणपत्र उपलब्ध कराया जाएगा।
-उच्च शैक्षणिक संस्थानों के विद्यार्थियों को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग च्वॉइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम (सीबीसीएस) के अंतर्गत 2 क्रेडिट प्वाइंट्स उपलब्ध कराने पर सहमत हो गया है, जो स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप पूरा करेंगे।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

पवन उर्जा शिखर सम्मेलन-2018

25 से 28 सितंबर 2018 को जर्मनी के हैम्बर्ग में वैश्विक पवन उर्जा सम्मेलन का प्रथम संस्करण आयोजित किया जाएगा. यह सम्मेलन व्यापार, नेटवर्क और सम्पूर्ण विश्व में लोगों के बीच पवन उर्जा के बारे में प्रचार-प्रसार करने पर केन्द्रित रहेगा. इस सम्मेलन के तीन मुख्य विषय डायनामिक बाजार, कम लागत और स्मार्ट उर्जा है.

मुख्य विशेषताएँ

इस पवन उर्जा शिखर सम्मेलन में 1400 से अधिक प्रतिभागी सम्मिलित होंगे, और यह दुनिया का सबसे बड़ा पवन उर्जा सम्मेलन रहेगा. इस कार्यक्रम का उद्देश्य व्यापार, नेटवर्क और सम्पूर्ण विश्व में लोगों के बीच पवन उर्जा के विषय का प्रचार-प्रसार करना है. सम्मेलन में 100 से अधिक देश भाग लेंगे, जिनमें भारत, चीन, अमेरिका, स्पेन एवं डेनमार्क शामिल है. इस शिखर सम्मेलन कार्यक्रम में ‘विंडइनेर्जी हैम्बर्ग’ और ‘विंडयुरोप’ दो सम्मेलन सम्मिलित होंगे. विंडयूरोप सम्मेलन के 250 विशेषज्ञ 50 से अधिक सेमिनारों में हिस्सा लेंगे, जिन्हें इको-फ्रेंडली तकनीक के लिए एक प्लैटफ़ार्म भी मिलेगा. पवन उर्जा शिखर सम्मेलन का यह पहला संस्करण व्यापार, नेटवर्किंग तथा सूचना के दृष्टिकोण से पवन उर्जा इंडस्ट्री के लिए अति महत्वपूर्ण साबित हो सकता है. इस सम्मेलन में भारत की कई कंपनियां भाग लेते हुये कार्यक्रम मे महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेंगी. पवन उर्जा उत्पादित करने वाले देशों में भारत चौथे स्थान पर है. पवन उर्जा उत्पादन करने वालों देशों की सूची में भारत से पहले अमेरिका एवं जर्मनी का नाम दर्ज है. साथ ही चीन के बाद भारत मे 33 GW पवन उर्जा उत्पादित होती है.

Categories:

Month:

Tags: , ,

Advertisement