करेंट अफेयर्स एवं हिन्दी समाचार सारांश

गृह मंत्रालय ने एटीएम रिफिलिंग के लिए जारी किये नए दिशानिर्देश

केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने एटीएम रिफिलिंग के लिए नए SoP (Standard Operating Procedures) जारी किये। यह कदम कैश वैन पर हमले तथा एटीएम फ्रॉड जैसी घटनाओं के बढ़ने के कारण लिया गया है। ये नए नियम 8 फरवरी, 2019 से लागू होंगे। देश में 8,000 से अधिक निजी स्वामित्व वाली कैश वैन हैं। यह निजी कैश वैन रोजाना लगभग 15,000 करोड़ रुपये हैंडल करती हैं।

मुख्य बिंदु

नए SoP के बाद शहरों में एटीएम रिफिलिंग के प्रक्रिया शहरी क्षेत्रों में 9 बजे तथा ग्रामीण क्षेत्रों में 6 बजे तक निश्चित की गयी है। नक्सल प्रभावित जिलों में यह समय सीमा शाम के 4 बजे तक है। नए नियमों के तहत निजी एजेंसियों को बैंक से रोकड़ दिन के पहले प्रहर में ले जाना होगा, यह रोकड़ सुरक्षित वाहनों में ले जाना अनिवार्य है।

नए नियमों के अनुसार कैश वैन में एक ड्राईवर, 2 हथियारबंद सुरक्षा गार्ड तथा 2 एटीएम अफसर होने चाहिए। एक सुरक्षा गार्ड वैन के अगले हिस्से में ड्राईवर के साथ बैठेगा, जबकि दूसरा गार्ड वैन के पिछले हिस्से में बैठेगा। कैश वैन में एक यात्रा के दौरान 5 करोड़ रुपये से अधिक राशि नहीं ले जाई जा सकती। रोकड़ के प्रत्येक संदूक को कैश वैन में चैन व ताले से सुरक्षित रखा जाना चाहिए। इसे केवल अलग-अलग कस्टोडियन द्वारा ही खोला जा सकता है। किसी भी परिस्थिति में कम से कम एक सुरक्षा गार्ड मौजूद होना चाहिए। सुरक्षा गार्ड के रूप में नियुक्त के लिए पूर्व सैनिकों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

रोकड़ को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने के लिए निजी सुरक्षा एजेंसी को कर्मचारी का पुलिस वेरिफिकेशन, आधार तथा निवास प्रमाणीकरण करना होगा। प्रत्येक कैश वैन में जीपीएस टैकिंग डिवाइस होनी चाहिए। सभी कैश वैन में CCTV कैमरा लगाये जाने चाहिए, जिसमे कम से कम 5 दिन की रिकॉर्डिंग की जा सके। आपातकालीन स्थिति के लिए कैश वैन में हूटर, आग बुझाने का यन्त्र तथा इमरजेंसी लाइट होनी चाहिए।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

बजरंग पूनिया ने भारत के लिए एशियाई खेल 2018 में जीता पहला स्वर्ण पदक

बजरंग पूनिया ने एशियाई खेल 2018 में भारत के लिए पहला स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने पुरुषों के 65 किलोग्राम भार वर्ग में जापान के ताकातानी दाइची को 11-8 से हराया। यह एशियाई खेलों में उनका पहला स्वर्ण पदक है, इससे पहले उन्होंने 2014 में एशियाई खेलों में 61 किलोग्राम भार वर्ग में रजत पदक जीता था।

मुख्य बिंदु

बजरंग पूनिया भारत के फ्रीस्टाइल पहलवान हैं। वे हरियाणा से हैं। वे देश के सबसे कुशल पहलवानों में से एक हैं। वे भारतीय रेलवे में टिकट निरीक्षक का कार्य करते हैं। एशियाई खेल 2018 से पहले उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लगातार तीन स्वर्ण पदक जीते हैं, उन्होंने राष्ट्रमंडल खेल, बिलिसी ग्रैंड प्रिक्स और अंतर्राष्ट्रीय यासर दोगु में स्वर्ण पदक जीत थे। वर्ष 2013 में उन्होंने 60 किलोग्राम भार वर्ग में विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता था।

नोट – अपुर्वी चंदेला और रवि कुमार ने एशियाई खेल 2018 में भारत के लिए पहले पदक जीते थे, उन दोनों ने राइफल शूटिंग इवेंट की मिश्रित श्रेणी में कांस्य पदक जीते थे।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement