करेंट अफेयर्स एवं हिन्दी समाचार सारांश

फोर्ब्स ने जारी की सबसे अधिक कमाई करने वाले खिलाड़ियों की सूची

हाल ही में फोर्ब्स पत्रिका ने सर्वाधिक कमाई करने वाले खिलाड़ियों की सूची जारी की है, इस सूची में शामिल एकमात्र भारतीय विराट कोहली हैं, कोहली को इस सूची में 100वां स्थान मिला है। विराट कोहली की कुल कमाई 25 मिलियन डॉलर हैं, इसमें 21 मिलियन डॉलर विज्ञापन की कमाई जबकि शेष 4 मिलियन डॉलर उनका वेतन है।

टॉप 10 सबसे अधिक कमाई करने वाले खिलाड़ी

  1. लिओनेल मेसी : अर्जेंटीना के स्टार फुटबॉलर इस सूची में प्रथम स्थान पर है, उनकी कुल कमाई 127 मिलियन डॉलर है। मेसी ला लीगा में विश्व प्रसिद्ध बार्सिलोना फुटबॉल क्लब के लिए खेलते हैं।
  2. क्रिस्टियानो रोनाल्डो : पुर्तगाल के शानदार फुटबॉलर रोनाल्डो इस सूची में दूसरे स्थान पर हैं, उनकी कुल कमाई 109 मिलियन डॉलर है। रोनाल्डो वर्तमान में इटालियन फुटबॉल लीग “सीरी आ” में युवेंतस नामक फुटबॉल क्लब के लिए खेलते हैं।
  3. नेमार : इस सूची में तीसरे स्थान पर भी फुटबॉलर ही है, ब्राज़ील के नेमार की कमाई 105 मिलियन डॉलर है।
  4. कानेलो अल्वारेज़ : मेक्सिको के मुक्केबाज़ कानेलो अल्वारेज़ की कुल कमाई 94 मिलियन डॉलर है।
  5. रॉजर फेडरेर : टेनिस के मशहूर खिलाड़ी रॉजर फेडरेर इस सूची में पांचवें स्थान पर हैं,  उनकी कुल कमाई 93.4 मिलियन डॉलर।
  6. रसल विल्सन : रसल विल्सन एक अमेरिकी खिलाड़ी हैं, वे अमेरिकन फुटबॉल खेलते हैं, उनकी कुल कमाई 89.5 मिलियन डॉलर है।
  7. आरोन रॉजर्स : आरोन रॉजर्स एक अमेरिकी खिलाड़ी हैं, वे अमेरिकन फुटबॉल खेलते हैं, उनकी कुल कमाई 89.3 मिलियन डॉलर है।
  8. लेब्रोन जेम्स : लेब्रोन जेम्स के प्रसिद्ध बास्केटबॉल खिलाड़ी हैं, उनकी कुल कमाई 89 मिलियन डॉलर है।
  9. स्टीफ़न करी : स्टीफन करी अमेरिकी बास्केटबॉल खिलाड़ी हैं, उनकी कुल कमाई 79.8 मिलियन डॉलर है।
  10. केविन डूरंट : स्टीफन करी अमेरिकी बास्केटबॉल खिलाड़ी हैं, उनकी कुल कमाई 65.4 मिलियन डॉलर है।

फोर्ब्स पत्रिका

फोर्ब्स पत्रिका अमेरिका बिज़नेस पत्रिका है, इसमें वित्त, उद्योग, निवेश तथा मार्केटिंग जैसे विषयों पर लेख छपते हैं। फोर्ब्स पत्रिका का पहला संस्करण 15 सितम्बर, 1917 को जारी हुआ था। फोर्ब्स पत्रिका का मुख्यालय अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में स्थित है ।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

2018 में कार्बन उत्सर्जन में 2% की वृद्धि हुई: अध्ययन

यूनाइटेड किंगडम बेस्ड तेल व गैस कंपनी ब्रिटिश पेट्रोलियम ने हाल ही में “The BP Statistical Review of World Energy” नामक रिपोर्ट जारी की, इस रिपोर्ट के मुताबिक 2018 में कार्बन उत्सर्जन में 2% की वृद्धि हुई। यह 2010-11 के बाद होने वाली सबसे ज्यादा वृद्धि है।

मुख्य बिंदु

इस रिपोर्ट के मुताबिक जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने के लिए तथा ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए काफी कम प्रयास किये गये हैं। उर्जा मांग तथा कार्बन उत्सर्जन में अत्याधिक वृद्धि हो रही है।

वैश्विक उर्जा मांग में 2.9% की वृद्धि हुई, इस मांग को पूरा करने के लिए अमेरिका में शेल रिज़र्व का अधिक दोहन किया गया। 2018 में नवीकरणीय  उर्जा के उपयोग में 14.5% वृद्धि हुई है।

इस रिपोर्ट के अनुसार हरित/ नवीकरणीय उर्जा के द्वारा शुद्ध-शून्य ग्रीन हाउस उत्सर्जन को प्राप्त करना काफी मुश्किल है। इसलिए सरकारों को कोयला व तेल से होने वाले प्रदूषण को कम करने की दिशा में कार्य करना होगा।

The BP Statistical Review of World Energy

इसे उर्जा उद्योग का मानक माना जाता है। इसमें देशों के तेल भंडार के आकार, नवीकरणीय उर्जा के उत्पादन तथा विभिन्न उपभोग दरों का वर्णन किया जाता है।

विश्व में सभी देशों में सरकारें ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए डेडलाइन्स सेट कर रही हैं। ब्रिटेन की टॉप एडवाइजरी बॉडी ने ब्रिटिश सरकार के लिए 2050 तक ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को शून्य करने का लक्ष्य रखने की अनुशंसा की है। इसे कई यूरोपीय सरकारों द्वारा अपनाया गया है।

अमेरिका में 2030 तक ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को शून्य बनाने के लिए प्रयास किये जा रहे हैं। परन्तु यह लक्ष्य काफी मुश्किल है।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement