करेंट अफेयर्स एवं हिन्दी समाचार सारांश

हरियाणा सरकार ने लांच की “शिक्षा सेतु” मोबाइल एप्प

हरियाणा सरकार ने हाल ही में “शिक्षा सेतु” मोबाइल एप्प लांच की, यह एप्प छात्रों की सहायता के लिए लांच की गयी है। इस एप्प की सहायता से राज्य के शिक्षा विभाग तथा कॉलेज प्रशासन में पारदर्शिता आएगी। इसके अलावा छात्रों, अभिभावकों, अध्यापकों तथा प्रशासन के बीच कनेक्टिविटी भी बेहतर होगी।

“शिक्षा सेतु” मोबाइल एप्प

  • इस एप्प पर उपस्थिति, फीस, ऑनलाइन एडमिशन तथा छात्रवृत्ति के बारे में जानकारी उपलब्ध होगी।
  • इस एप्प के माध्यम से सरकारी कॉलेज के लेक्चरर व निदेशालय के अफसरों की जानकारी भी उपलब्ध रहेगी।
  • इस एप्प पर छात्रों को महत्वपूर्ण नोटिस, सर्कुलर तथा अन्य कार्यक्रमों को जानकारी प्राप्त होगी।
  • इस एप्प पर फीस के ऑनलाइन भुगतान की सुविधा भी उपलब्ध होगी। कॉलेज प्रशासन इस एप्प पर लंबित फीस तथा कुल एकत्रित फीस की जानकारी भी प्राप्त कर सकता है।
  • छात्र इस एप्प पर कॉलेज में कोर्स अथवा सीट के स्टेटस की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
  • इस एप्प में छात्रवृति, योग्यता इत्यादि की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

 

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

अस्मा जहाँगीर को मरणोपरांत संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार पुरस्कार से सम्मानित किया गया

हाल ही में पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता अस्मा जहाँगीर को मरणोपरांत संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वे इस पुरस्कार को जीतने वाली चौथी पाकिस्तानी नागरिक हैं। इससे पहले बेगम राणा लियाकत खान (1978), बेनजीर भुट्टो (2008) तथा मलाल यूसुफ़जई (2013) को भी संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार पुरस्कार

इन पुरस्कारों की स्थापना 1966 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने की थी, इसका उद्देश्य उन व्यक्तियों तथा संगठनों को सम्मानित करना है जिन्होंने मानव अधिकारों की रक्षा व सम्वर्धन के लिए उत्कृष्ठ कार्य किया है। पहली बार यह पुरस्कार 1968 में प्रदान किये गये थे। इन पुरस्काओं को प्रत्येक पांच वर्ष बाद प्रदान किया जाता है।

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार पुरस्कार 2018 के विजेता

अस्मा जहाँगीर

अस्मा जहाँगीर एक पाकिस्तान मानवाधिकार कार्यकर्ता थीं, उनकी मृत्यु फरवरी, 2018 में हुई थी। वे एक वकील थीं उन्हें महिलाओं के अधिकारों तथा अल्पसंख्यकों के अधिकारों के लिए आवाज़ उठाने  के लिए जाना जाता था। वे पाकिस्तान सर्वोच्च न्यायालय की बार एसोसिएशन की अध्यक्ष बनने वाली पहली महिला थीं। वे पाकिस्तान सेना तथा खुफिया एजेंसियों की आलोचक थीं। इस कारण उन्हें कई परेशानियों का सामना करना पड़ा। उन्होंने पाकिस्तान मानव अधिकार आयोग की स्थापना की थी।

रेबेका ग्युमी

रेबेका ग्युमी एक तंज़ानियाई वकील हैं, वे म्सिचाना इनिशिएटिव की संस्थापक हैं। म्सिचाना इनिशिएटिव लड़कियों की शिक्षा के लिए कार्य करता है। वर्ष 2016 में उन्होंने बाल विवाह के विरुद्ध केस में ऐतिहासिक जीत प्राप्त की थी। उन्होंने तंज़ानिया विवाह अधिनियम के विरुद्ध याचिका दायर की थी, इस अधिनियम में 14 वर्ष के विवाह की अनुमति दी गयी थी।

जेओनिया वापिचाना

जेओनिया वापिचाना ब्राज़ील की वकील हैं। उन्हें हाल ही में कांग्रेस के लिए चुना गया। वे ब्राज़ील की पहली मूल निवासी वकील हैं। वे ब्राज़ील में लॉ स्कूल से ग्रेजुएट होने वाली पहली मूल निवासी थीं।

फ्रंट लाइन डिफेंडर्स

फ्रंट लाइन डिफेंडर्स आयरलैंड का एक मानवाधिकार संगठन है, यह संगठन मानव अधिकारों की रक्षा के लिए कार्य करती है। इसकी स्थापना 2001 में आयरलैंड की राजधानी डबलिन में की गयी थी।

ट्रिविया : अब तक केवल एक ही भारतीय को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार पुरस्कार प्रदान किया गया था। बाबा आमटे को 1988 में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार पुरस्कार प्रदान किया गया था।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement