करेंट अफेयर्स एवं हिन्दी समाचार सारांश

संजीव पुरी को ITC का चेयरमैन नियुक्त किया गया

ITC ग्रुप के मौजूदा मैनेजिंग डायरेक्टर संजीव पुरी को अब कंपनी का चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्टर नियुक्त किया गया है। हाल ही में ITC के पूर्व चेयरमैन वाई. सी. देवेश्वर का निधन 11 मई, 2019 को हुआ था।

पृष्ठभूमि

हाल ही में वाई. सी. देवेश्वर का निधन हुआ , वे ITC कंपनी के चेयरमैन थे, उनका निधन गुरुग्राम में 11 मई, 2019 को हुआ। वे भारत के सबसे लम्बे कार्यकाल वाले सीईओ थे, उन्हें 2011 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। देवेश्वर 1996 में उस समय ITC के चेयरमैन बने थे, जब ITC बुरे दौर से गुज़र रही थी। उन्होंने कंपनी का विविधिकरण किया। शुरुआत में यह कंपनी सिगरेट उप्तादन कार्य करती है। बाद में इस कंपनी ने अन्य उपभोक्ता वस्तुओं का उत्पादन शुरू किया, इसके बाद यह कंपनी आईटी सेक्टर तथा आतिथ्य सेक्टर में भी शामिल है। वाई.सी. देवेश्वर भारतीय रिज़र्व बैंक के केन्द्रीय बोर्ड के निदेशक भी थे।

संजीव पुरी

संजीव पुरी ने IIT कानपूर तथा व्हार्टन स्कूल ऑफ़ बिज़नेस से पढ़ाई की है। वे ITC के साथ 1986 में जुड़े थे।  वे 2015 से कंपनी के बोर्ड में  डायरेक्टर हैं। फरवरी, 2017 में उन्हें चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर नियुक्त किया गया था।

ITC

ITC एक भारतीय बहु-राष्ट्रीय कंपनी है, इसका मुख्यालय पश्चिम बंगाल के कलकत्ता में स्थित है। इसकी स्थापना 1910 में हुई थी। 2018 में ITC का राजस्व 47,262 करोड़ रुपये था। ITC में 30,000 से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं। इसका मार्केट कैपिटलाइजेशन 50 अरब डॉलर का है।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

जापान ने किया विश्व की सबसे तेज़ बुलेट ट्रेन “अल्फ़ा-एक्स” का परीक्षण

जापान ने विश्व की सबसे तेज़ शिन्कासेन बुलेट ट्रेन “अल्फ़ा-एक्स” का परीक्षण शुरू किया, यह ट्रेन 400 किलोमीटर प्रतिघंटा की गति प्राप्त करने में सक्षम है। यह ट्रेन संभवतः 2030 में अपनी सेवाएं प्रदान करेगी। यह ट्रेन 360 किलोमीटर की गति से कार्य करेगी। इसके साथ ही यह चीन की फुशिंग ट्रेन से भी तेज़ बन जायेगी। फुशिंग ट्रेन अल्फ़ा-एक्स से 10 किलोमीटर प्रतिघंटा कम गति से चलती है। अल्फ़ा एक्स में 10 कार होंगी। इसमें सभी आधुनिक फीचर मौजूद होंगे। इसमें कम्पन सेंसर, तामपान सेंसर इत्यादि उपलब्ध होंगे।

जापान में हाई स्पीड रेल नेटवर्क को शिन्कासेन कहा जाता है, इसे आम भाषा में बुलेट ट्रेन कहा जाता है।

अल्फ़ा-एक्स का परीक्षण सेंदाई तथा ओमोरी शहरों के बीच किया जाएगा, इन दो शहरों के बीच की दूरी 280 किलोमीटर है। यह परीक्षण सप्ताह में दो बार मध्य रात्री को किये जायेंगे। अल्फ़ा -एक्स शिन्कासेन N700S की उत्तराधिकारी है। शिन्कासेन N700S का परीक्षण लगभग एक वर्ष पहले शुरू हुआ था, यह ट्रेन 2020 में कार्य शुरू करेगी, इसकी अधिकतम गति 300 किलोमीटर प्रतिघंटा है। गौरतलब है कि जापान रेलवे की मैग्नेटिक लेविटेशन (मैगलेव) ट्रेन ने 2015 में एक परीक्षण के दौरान 603 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ़्तार प्राप्त की थी। जापान को विश्व में सबसे बेहतरीन रेल टेक्नोलॉजी के लिए जाना जाता है।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

Advertisement