अमेरिका

फ्रांस में किया गया 45वें G7 शिखर सम्मेलन का आयोजन

फ्रांस में 45वें G7 शिखर सम्मेलन का आयोजन 24-26 अगस्त, 2019 के दौरान किया गया। इस शिखर सम्मेलन की थीम “असमानता का मुकाबला करना” थी। इस सम्मेलन में G7 के सदस्य देशों (फ्रांस इटली, कनाडा, अमेरिका, जापान, जर्मनी तथा यूनाइटेड किंगडम) ने हिस्सा लिया।

इस सम्मेलन में भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी हिस्सा लिया, भारत को इस सम्मेलन में फ्रांस द्वारा आमंत्रित किया गया था। विश्लेषकों के अनुसार भारत को यह आमंत्रण भारत और फ्रांस के बीच मज़बूत संबंधों को दर्शाता है। G-7 समूह में अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, कनाडा, जापान और जर्मनी शामिल है। इससे पहले 2005 में भी भारत G-7 के शिखर सम्मेलन में शामिल हुआ था।

G-7

G-7 अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, कनाडा, जापान और जर्मनी का समूह है, यह IMF के अनुसार विश्व की सबसे एडवांस्ड अर्थव्यवस्थाएं हैं। यह वैश्विक नेट वर्थ के 58% हिस्से का प्रतिनिधित्व करते हैं। G-7 देश वैश्विक सकल घरेलु उत्पाद के 46% का प्रतिनिधित्व करते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

बावर-373 : ईरान ने स्वदेशी रूप से निर्मित हवाई सुरक्षा प्रणाली का अनावरण किया

ईरान ने स्वदेशी रूप से निर्मित हवाई सुरक्षा प्रणाली बावर-373 का अनावरण किया, यह अनावरण ईरान के “राष्ट्रीय रक्षा उद्योग दिवस” के अवसर पर किया गया। ईरान के राष्ट्रपति हसन रोहानी ने बावर-373 को देश के मिसाइल रक्षा नेटवर्क में शामिल करने का आदेश दिया है। इस रक्षा प्रणाली का अनवरण ऐसे समय में किया गया है जब ईरान और अमेरिका के बीच सम्बन्ध तनावपूर्ण बने हुए हैं।

बावर-373 मिसाइल सिस्टम

फ़ारसी में  बावर शब्द का अर्थ है “विश्वास करना”। इस मिसाइल सिस्टम को ईरान की प्रथम स्वदेशी रूप से निर्मित लम्बी-रेंज की मिसाइल रक्षा प्रणाली माना जा रहा है।

विशेषताएं

यह एक लम्बी रेंज की मोबाइल मिसाइल प्रणाली है, यह सतह से हवा में मार करने में सक्षम है।

इस मिसाइल की रेंज 200 किलोमीटर से अधिक है। यह रक्षा प्रणाली ईरान की भौगोलिक स्थिति के अनुकूल है। यह मिसाइल रक्षा प्रणाली रूस की एस-300 तथा अमेरिका के पेट्रियट सिस्टम्स से प्रतिस्पर्धा करती है।

पृष्ठभूमि

2010 में अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबंधों के कारण ईरान ने रूस के एस-300 प्रणाली की खरीद को रद्द कर दिया था, इसके बाद से ही ईरान ने बावर का निर्माण किया। मार्च, 2016 में ईरान ने कई वर्षों की देरी के बाद एस-300 प्रणाली को स्थापित किया था।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement