अमेरिका

ओपन स्काइज संधि क्या है?

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने हाल ही में घोषणा की कि अमेरिका अब ओपन स्काइज संधि से अलग होगा।

संधि के बारे में

ओपन स्काईज की संधि पर 2002 में हस्ताक्षर किए गए थे। इस संधि ने प्रतिभागियों के लिए एक हवाई निगरानी प्रणाली की स्थापना की। संधि पर हस्ताक्षर करने वाले 34 सदस्य हैं। अमेरिका और रूस दोनों संधि के हस्ताक्षरकर्ता हैं।

संधि की मुख्य विशेषताएं

यह संधि निहत्थे हवाई अवलोकन का एक क्षेत्र स्थापित करती है। इसके तहत हस्ताक्षरकर्ताओं के क्षेत्रों पर अवलोकन की अनुमति है। यह आपसी समझ को बढ़ाता है और सभी प्रतिभागियों में विश्वास उत्पन्न करता  है।

समस्या क्या है?

अमेरिकी राष्ट्रपति ने संधि से पीछे हटने की घोषणा करते हुए आरोप लगाया कि रूस इस संधि की अवहेलना की है। डोनाल्ड ट्रम्प के राष्ट्रपति बनने के बाद से यह ऐसा तीसरा समझौता है जिससे अमेरिका अलग हुआ है।

हस्ताक्षरकर्ता  देश

इस संधि के हस्ताक्षरकर्ता देशों में यूनाइटेड किंगडम, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, स्पेन, इटली, फिनलैंड, पुर्तगाल, स्वीडन, तुर्की, बेल्जियम, बेलारूस, क्रोएशिया, बुल्गारिया, बोस्निया, हर्जेगोविना, चेक गणराज्य, एस्टोनिया, डेनमार्क, जॉर्जिया, फिनलैंड, रूस, आइसलैंड, हंगरी, स्लोवाकिया, रूस, यूक्रेन और स्लोवेनिया शामिल है।  किर्गिस्तान एकमात्र ऐसा देश है जिसने इस संधि की पुष्टि नहीं की है

भारत

भारत की जापान के साथ भी ऐसी ही संधि है। भारत और जापान ने 2017 में ‘ओपन स्काई’ समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। भारत ने राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन नीति, 2016 के अनुसार इस समझौते पर हस्ताक्षर किए।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

अमेरिका भारत को वेंटीलेटर प्रदान करेगा

अमेरिका ने हाल ही में घोषणा की कि वह भारत को वेंटिलेटर प्रदान करेगा। इस घोषणा को भारत द्वारा मलेरिया-रोधी दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के निर्यात से प्रतिबंध हटाने  के पारस्परिक संकेत के रूप में देखा जा रहा है।

हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन

भारत ने हाल ही में HCQ दवाओं पर निर्यात प्रतिबंध हटा दिया। इससे अमेरिका को काफी हद तक फायदा हुआ। अमेरिका COVID-19 से सबसे अधिक प्रभावित देशों में से एक है। इसके बाद लगभग 50 मिलियन HCQ टैबलेट अमेरिका को निर्यात की गयी थी।

हालांकि, हाल के अध्ययनों से पता चल रहा है कि गंभीर रूप से बीमार रोगियों में दवा की प्रभावकारिता कम है। फ्रांस और चीन में किए गए एक अध्ययन के अनुसार, दवा यादृच्छिक नियंत्रित परीक्षणों में विफल रही।

अमेरिका और चीन दोनों ने अपने राष्ट्रीय दिशानिर्देशों के तहत इस दवा के उपयोग की सिफारिश की थी।

भारत में एच.सी.क्यू

ICMR (इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) ने “प्रोफ़ाइलेक्टिक उपचार” में दवा की सिफारिश की थी।

WHO में HCQ

डब्लूएचओ (विश्व स्वास्थ्य संगठन) द्वारा किए जा रहे चार मेगा परीक्षणों में से एक में एचसीक्यू को शामिल किया गया है। इसमें HCQ, Lopinavir और Ritonavir, Lopinavir और Ritonavir के साथ Interferon, Remdesivir शामिल हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

Advertisement