अरुणाचल प्रदेश

अरुणाचल प्रदेश विधानसभा ने 3 नए जिले बनाने के लिए पारित किया बिल

अरुणाचल प्रदेश विधानसभा ने अरुणाचल प्रदेश जिला पुनर्गठन (संशोधन) बिल, 2018 पारित किया। इस बिल का उद्देश्य पक्के-केसांग, लेपा रादा और शी योमी नामक तीन नए जिलों का निर्माण करना है। इस बिल को ध्वनि मत के द्वारा पारित किया गया। इन जिलों का निर्माण लोगों की मांग और प्रशासनिक आवश्यकता को मध्य नज़र रखते हुए किया जा रहा है। इन नए जिलों के निर्माण के साथ अरुणाचल प्रदेश के कुल जिलों की संख्या अब 25 हो जाएगी, पहले यह संख्या 22 थी।

मुख्य बिंदु

पक्के-केसांग जिला : इस जिले का निर्माण पूर्वी कामेंग जिले को काटकर किया जायेगा, इसकी पांच प्रशासनिक इकाईयां पक्केंग केसांग, सिजोसा, पिजिरियांग, पस्सा घाटी और दिस्सिंग पस्सो है। इसका जिला मुख्यालय लेम्मी में होगा।

लेपा रादा जिला : इसका निर्माण लोअर सियांग जिले का विभाजन करके किया जायेगा, इसका मुख्यालय बसर में होगा। इसकी चार प्रशासनिक इकाईयां तिरबिन, बसर, दारींग और सागो हैं।

शी-योमी जिला : इस जिले का निर्माण पश्चिम सियांग जिले के विभाजन करके किया जायेगा, इसका मुख्यालय तातो में होगा। इसकी चार प्रशासनिक इकाईयां मेचुका, तातो, पीडी और मनीगोंग हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

संस्कृति मंत्रालय ने गुजरात में माधवपुर मेला का आयोजन किया

गुजरात के प्रसिद्ध माधवपुर मेले का उत्तर-पूर्व के राज्यों के साथ एक अनोखी पहल के अंतर्गत पहला सांस्कृतिक एकीकरण दिखाई देगा। इसका उद्देश्य देश के विभिन्न हिस्सों, प्रमुख रूप से उत्तर-पूर्वी राज्यों को एक भारत-श्रेष्ठ भारत कार्यक्रम के तहत एक-दूसरे के निकट लाना है।
• अरुणाचल प्रदेश की मिश्मी जनजाति से यह मेला संबद्ध है। मिश्मी जनजाति, प्राचीन राजा भीष्मक और उनकी पुत्री रुक्मिणी के ज़रिये भगवान कृष्ण को अपना पूर्वज मानती है।
• इस मेले में भगवान कृष्ण के साथ रुक्मिणी देवी की अरुणाचल प्रदेश से गुजरात तक की अमर यात्रा का उल्लास पहली बार मनाया जाएगा।
• उत्तर-पूर्व से 150 लोगों के एक जत्थे का माधवपुर मेले में रुक्मिणी के परिवार के प्रतिनिधि के तौर पर पारंपरिक स्वागत किया जाएगा।
• कल्कि पुराण में निचले दिबांग घाटी शहर में रोइंग के निकट स्थित भीष्मकनगर का जिक्र भी मिलता है।
• संस्कृति मंत्रालय के तहत, राष्ट्रीय कला केंद्र (IGNCA), मानव संग्रहालय और गुजरात, असम, अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर राज्य एवं अन्य संस्थाएँ, इस मेले को एक नया आयाम देने के लिये एक साथ काम कर रही हैं।
• पश्चिम बंगाल को छोड़कर इस अभियान में शेष सभी राज्य एवं संघीय क्षेत्र भाग ले रहे हैं।
• एक भारत-श्रेष्ठ भारत अभियान इस वर्ष के उत्सव का मूल उद्देश्य के अनुरूप है और विविधता में एकता की देश की विशिष्टता को दर्शाने के साथ-साथ पश्चिम एवं पूर्व के बीच संबंध स्थापित करना है।
• सांस्कृतिक एकीकरण के उद्देश्य से दोनों क्षेत्रों के आयोजित किये गए चार दिन के इस पर्व में अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर एवं उत्तर-पूर्व के अन्य राज्यों की कला, नृत्य, संगीत, कविता, कथा वाचन और लोक-नाटकों का जीवंत प्रदर्शन किया जाएगा।

पृष्ठभूमि

सांस्कृतिक रूप से महत्त्वपूर्ण माधवपुर घेड एक छोटा गाँव है,जहाँ भगवान कृष्ण ने राजा भीष्मक की बेटी रुक्मिणी से लोककथाओं के अनुसार विवाह किया था। माधवपुर पोरबंदर के निकट, समुद्र तट पर स्थित है। 15वीं शताब्दी में निर्मित इस माधवराय मंदिर स्थल को प्रतिबिंबित करता है। एक सांस्कृतिक मेले द्वारा इस समारोह का आगाज़ किया जाता है, जो रामनवमी से शुरू होता है। एक रंगीन रथ कृष्ण की मूर्ति को लेकर गाँव की परिक्रमा करता है और आमतौर पर यह उत्सव पाँच दिनों तक चलता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement