अरुण जेटली

सुषमा स्वराज, अरुण जेटली और मनोहर पर्रिकर के नाम पर रखा गया राष्ट्रीय संस्थानों का नाम

भारत सरकार ने दिवंगत मंत्रियों सुषमा स्वराज, अरुण जेटली और मनोहर पर्रिकर के नाम पर कई राष्ट्रीय संस्थानों का नाम रखा है।

मनोहर पर्रिकर

मनोहर पर्रिकर  2014 से 2017 के बीच देश के रक्षा मंत्री रहे। हाल ही में रक्षा व विश्लेषण संस्थान (IDSA) का नाम बदलकर मनोहर मनोहर पर्रिकर रक्षा अध्ययन संस्थान रखा गया है। उन्होंने अपने कार्यकाल में वन रैंक वन पेंशन वन स्कीम योजना के लिए महत्वपूर्ण योगदान दिया।

IDSA की स्थापना 1965 में की गयी थी। इसका उद्देश्य रक्षा क्षेत्र के विभिन्न पहलुओं का अध्ययन करना है।

सुषमा स्वराज

सुषमा स्वराज देश की पूर्व विदेश मंत्री थीं। दिल्ली में प्रवासी भारतीय केंद्र का नाम बदलकर सुषमा स्वराज भवन रखा गया है। इसके अलावा नई दिल्ली में विदेश संस्थान का नाम बदलकर सुषमा स्वराज विदेश सेवा संस्थान रखा गया है।

अरुण जेटली

अरुण जेटली ने देश को वित्त मंत्री के रूप में अपनी सेवाएं दीं। राष्ट्रीय वित्तीय प्रबंधन संस्थान का नाम बदलकर अरुण जेटली राष्ट्रीय वित्तीय प्रबंधन संस्थान रखा गया है। इसके अलावा सितम्बर, 2019 में दिल्ली के  फ़िरोज़शाह कोटला क्रिकेट स्टेडियम का नाम बदलकर अरुण जेटली स्टेडियम रखा गया।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

मैरीकोम बनीं पद्म विभूषण पुरस्कार जीतने वाली पहली महिला खिलाड़ी

6 बार की मुक्केबाजी विश्व चैंपियन एम.सी. मैरीकोम को ‘पद्मविभूषण’ से सम्मानित करने का फैसला लिया गया है। वे इस पुरस्कार को जीतने वाली पहली महिला खिलाड़ी हैं। वे विश्व की एक मात्र मुक्केबाज़ हैं जिन्होंने वर्ल्ड चैंपियनशिप में कुल आठ पदक जीतें हैं।

इस बार कुल सात लोगों को पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। पद्म विभूषण भारत को दूसरा सर्वोच्च सम्मान है। पद्म विभूषण पुरस्कार के विजेताओं की सूची इस प्रकार है : अरुण जेटली, सुषमा स्वराज, जॉर्ज फ़र्नान्डिस, छन्नूलाल मिश्र, अनिरुद्ध जगन्नाथ,
श्री विश्‍वेशतीर्थ स्‍वामीजी श्री पजवरा अधोखज मठ उडुपी।

पद्म पुरस्कार

पद्म पुरस्कार कई क्षेत्रों में दिए जाते हैं, इसमें शामिल हैं : सामजिक कार्य, सार्वजानिक मामले, विज्ञान व इंजीनियरिंग, व्यापार व उद्योग, औषधि, साहित्य व शिक्षा, खेल व सिविल सेवा। यह पुरस्कार तीन श्रेणियों में दिए जाते हैं:

  • पद्म विभूषण अद्वितीय व विशिष्ठ सेवा के लिए प्रदान किया जाता है।
  • पद्म भूषण उत्कृष्ठ सेवा के लिए प्रदान किया जाता है।
  • पद्म श्री किसी क्षेत्र में विशिष्ठ सेवा के लिए प्रदान किया जाता है।

पद्म पुरस्कारों की स्थापना भारत सरकार ने 1954 में की थी, इसका उद्देश्य नागरिकों को विभिन्न क्षेत्रों में उन्हें बेहतरीन योगदान के लिए सम्मानित करना था।इन पुरस्कार के विजेताओं की घोषणा गणतंत्र दिवस से एक दिन पहले की जाती है। यह पुरस्कार विदेशियों को भी प्रदान किये जा सकते हैं जिन्होंने भारत के प्रति योगदान दिया हो।

पद्म पुरस्कार के लिए प्रधानमंत्री द्वारा गठित पद्म पुरस्कार समिति को सिफारिशें भेजी जाती हैं। यह समिति अपनी अनुशंसा देश के प्रधानमंत्री के सामने प्रस्तुत करती है। तत्पश्चात प्रधानमंत्री विजेताओं की सूची को राष्ट्रपति की मंज़ूरी के लिए भेजते हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , , ,

Advertisement