आयुष्‍मान भारत

आयुष मंत्रालय ने “आयुष ग्रिड” और “राष्ट्रीय आयुर्वेद रुग्णता संहिता” को विकसित किया

6 मार्च, 2020 को आयुष मंत्रालय ने आयुष ग्रिड नामक डिजिटल प्लेटफॉर्म लांच किया। यह ग्रिड आयुष अस्पतालों और प्रयोगशालाओं से जुड़ी सुविधाएं प्रदान करता है और पारंपरिक स्वास्थ्य देखभाल को बढ़ावा देता है।

आयुष ग्रिड

भारत में 12,500 से अधिक आयुष केंद्र हैं। “आयुष ग्रिड” प्लेटफार्म का उद्देश्य पूरे आयुष सेक्टर को डिजिटल बनाना है। आयुष मंत्रालय ने आयुष अस्पताल सूचना प्रबंधन प्रणाली, योग लोकेटर एप्लिकेशन, टेली-मेडिसिन, केस रजिस्ट्री पोर्टल, भुवन एप्लिकेशन लॉन्च की हैं। इन परियोजनाओं को बाद में आयुष ग्रिड के साथ जोड़ा जायेगा।

राष्ट्रीय आयुर्वेद रुग्णता संहिता (National Ayurveda Morbidity Codes)

आयुष मंत्रालय ने राष्ट्रीय आयुर्वेद रुग्णता संहिता विकसित की है। यह संहिता आयुर्वेद में वर्णित रोगों को वर्गीकृत करती है। इसके पहले चरण में 4 रोग स्थितियों की पहचान की गई है, जिनके नाम हैं कास, कुष्ठ, ज्वार और श्वास।

आयुष : आयुष्मान भारत की रीढ़

आयुष मंत्रालय, आयुष्मान भारत योजना की रीढ़ है। भारत सरकार ने इस योजना के तहत क्रॉस-पैथी निर्धारित की है। आयुष मंत्रालय ने पारंपरिक ज्ञान डिजिटल लाइब्रेरी स्थापित करने के लिए वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद के साथ भी सहयोग किया है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , , ,

आयुष्मान भारत : स्कूल हेल्थ एम्बेसडर पहल लांच की गयी

केंद्र सरकार ने आयुष्मान भारत के तहत स्कूल हेल्थ एंड वैलनेस एम्बेसडर पहल लांच की, इस पहल के तहत प्रत्येक सरकारी स्कूल में दो अध्यापकों को ‘हेल्थ एंड वैलनेस एम्बेसडर’ चुना जायेगा।

मुख्य बिंदु

इस पहल को ईट राईट अभियान, फिट इंडिया मूवमेंट और पोषण अभियान इत्यादि से जोड़ा जाएगा। इस अभियान के लिए 11 थीम चिन्हित की गयी हैं, इसमें स्वस्थ विकास, भावनात्मक स्वास्थ्य, जिम्मेदाराना नागरिकता, पोषण, स्वास्थ्य, लैंगिक समानता, स्वस्थ जीवनशैली को बढ़ावा देना, HIV रोकथाम, हिंसा के विरुद्ध सुरक्षा तथा इन्टरनेट का सुरक्षित उपयोग शामिल है।

इन एम्बेसडर को NCERT द्वारा गठित National Resource Group द्वारा प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। इस पहल के प्रथम चरण का क्रियान्वयन एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्टस के अप्पर प्राइमरी और सेकेंडरी स्कूलों में किया जाएगा। बाकी जिलों के स्कूलों  को पहल के दूसरे वर्ष में शामिल किया जाएगा।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

Advertisement