आसियान

नई दिल्ली में किया गया पहले भारत-आसियान इन्नोटेक शिखर सम्मेलन का आयोजन

पहले भारत-आसियान इन्नोटेक शिखर सम्मेलन का आयोजन नई दिल्ली में किया गया। इसका आयोजन भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) द्वारा विदेश मंत्रालय के विज्ञान व तकनीक विभाग के साथ मिलकर किया गया।

उद्देश्य

  • तकनीक प्रबंधन तथा योजना में वैश्विक ट्रेंड पर विचार-विमर्श।
  • नीतिगत सुधार तथा नियामक माहौल पर चर्चा।
  • उद्योग-एकेडेमिया-सरकार के बीच साझेदारी के लिए मार्ग प्रशस्त करना।
  • अनुसन्धान के शीघ्र वाणिज्यीकरण तथा बाज़ार मूल्यांकन के लिए क्षमता निर्माण।
  • वित्त, योजना तथा लीडरशिप में बेस्ट प्रैक्टिसेज को बढ़ावा देना।
  • स्थानीय तथा वैश्विक अनुसन्धान व विकास समुदाय को आपस जोड़ना।

मुख्य बिंदु

इस शिखर सम्मेलन ब्रूनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओ पीडीआर, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड तथा वियतनाम ने हिस्सा लिया। इस सम्मेलन के साथ-साथ भारतीय नवोन्मेषी टेक्नोलॉजी की प्रदर्शनी भी की गयी। इस सम्मेलन के दौरान आसियान प्रतिनिधिमंडल के मंत्रियों, सलाहकारों तथा अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने हिस्सा लिया।

आसियान

10 दक्षिण पूर्व एशियाई देशों का अंतर-सरकारी संगठन है। इसकी स्थापना 6 अगस्त 1967 को हुई थी। इसका मुख्यालय जकार्ता, इंडोनेशिया में है।
इसके सदस्य देश इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड, ब्रुनेई, कंबोडिया, लाओस, म्यांमार और वियतनाम हैं।

चार्टर में आसियान के उद्देश्य के बारे में बताया गया है।सदस्य देशों की संप्रभुता, क्षेत्रीय अखंडता और स्वतंत्रता को कायम रखना साथ ही विवादों का शांतिपूर्ण निपटारा हो इसके उदेश्यों में शामिल है। इसके सेक्रेट्री जनरल आसियान द्वारा पारित किए प्रस्तावों को लागू करवाने और कार्य में सहयोग प्रदान करने का काम करतें है। इनका कार्यकाल पांच वर्ष का होता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

सिंगापुर में शुरू हुआ 33वां आसियान शिखर सम्मेलन

11 नवम्बर, 2018 को सिंगापुर में 33वां आसियान शिखर सम्मेलन शुरू हुआ। सिंगापुर ह्सिन लूँग इस शिखर सम्मेलन के अध्यक्ष हैं। इस सम्मलेन का समापन 15 नवम्बर को होगा। इस सम्मेलन में भारत की ओर से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हिस्सा लेंगे, वे 14 और 15 नवम्बर को इस सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। इस सम्मेलन में 10 आसियान सदस्य देश तथा 8 पार्टनर देशों के प्रमुख हिस्सा लेंगे। इसके अतिरिक्त इस सम्मेलन में लगभग 100 देशों से 400 से अधिक कंपनियां हिस्सा लेंगी।

आसियान

यह 10 दक्षिण पूर्व एशियाई देशों का अंतर-सरकारी संगठन है। इसकी स्थापना 6 अगस्त 1967 को हुई थी। इसका मुख्यालय जकार्ता, इंडोनेशिया में है।
इसके सदस्य देश इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड, ब्रुनेई, कंबोडिया, लाओस, म्यांमार और वियतनाम हैं।

चार्टर में आसियान के उद्देश्य के बारे में बताया गया है।सदस्य देशों की संप्रभुता, क्षेत्रीय अखंडता और स्वतंत्रता को कायम रखना साथ ही विवादों का शांतिपूर्ण निपटारा हो इसके उदेश्यों में शामिल है। इसके सेक्रेट्री जनरल आसियान द्वारा पारित किए प्रस्तावों को लागू करवाने और कार्य में सहयोग प्रदान करने का काम करतें है। इनका कार्यकाल पांच वर्ष का होता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement