आसियान

सिंगापुर में किया गया 6वीं RCEP व्यापार मंत्रियों की बैठक का आयोजन

6वीं व्यापक क्षेत्रीय आर्थिक पार्टनरशिप (RCEP) व्यापार मंत्रियों की बैठक का आयोजन सिंगापुर में किया गया। इस बैठक में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व केन्द्रीय वाणिज्य व उद्योग तथा नागरिक विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने किया।

मुख्य बिंदु

RCEP व्यापार मंत्रियों की  यह बैठक सिंगापुर में 30 अगस्त को शुरू हुई। इस बैठक में 10 आसियान देश  तथा 6 आसियान FTA पार्टनर भारत, चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड ने हिस्सा लिया। इन देशों द्वारा व्यापार वार्ता समिति का मार्ग दर्शन किया जायेगा। भारत ने RCEP वार्ता में उच्च गुणवत्ता, संतुलित व समावेशी परिणामों के लिए रचनात्मक योगदान देता रहा है।

व्यापक क्षेत्रीय आर्थिक साझेदारी (RCEP)

RCEP 10 आसियान देशों (ब्रूनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनाम) और इसके 6 FTA साझेदारों (ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, भारत, चीन, जापान और कोरिया) के बीच एक प्रस्तावित मुक्त व्यापार समझौता (Free Trade Agreement – FTA) है।

इस व्यापारिक समझौते के लिए वार्ता कंबोडिया में 2012 के आसियान शिखर सम्मेलन में शुरू हुई थी। इसमें वस्तुओं, सेवाओं, निवेश, आर्थिक व तकनीकी सहयोग, बौद्धिक संपदा अधिकार इत्यादि को शामिल किया जायेगा।

RCEP के 16 सदस्य देशों की कुल जनसँख्या 3.4 अरब है, इसकी कुल जीडीपी (PPP) 49.5 ट्रिलियन डॉलर है, यह विश्व की कुल जीडीपी का 38% हिस्सा है।

आसियान विश्व के सबसे तेज़ी से बढती हुए बाजारों में से एक है, इन देशों में भारत के लिए व्यापार और निवेश के काफी अवसर उपलब्ध हैं। 2017-18 में आसियान भारत का दूसरा सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार था, इस दौरान भारत और आसियान के बीच 81.33 अरब डॉलर का व्यापार हुआ। यह भारत के वैश्विक व्यापार का 10.58% है। RCEP को ट्रांस-पैसिफिक पार्टनरशिप के विकल्प के रूप में भी देखा जा रहा है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

नई दिल्ली में दुसरे इंडिया मोबाइल कांग्रेस का अक्टूबर 2018 में आयोजन किया जायेगा

इंडिया मोबाइल कांग्रेस का आयोजन 25-27 अक्टूबर को नई दिल्ली में होने जा रहा है। डिपार्टमेंट ऑफ कम्युनिकेशन और सेलुलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया अक्टूबर में इंडिया मोबाइल कांग्रेस 2018 का आयोजन करेंगे। इस बार आसियान और बिम्सटेक के सदस्य देश भी इसमें शामिल होंगे। आईएमसी को वर्ष 2017 में लॉन्च किया गया था ताकि नीति निर्माताओं, उद्योगों और नियामकों को दूरसंचार क्षेत्र की भविष्य की दिशा के अनुसार चलाने के लिए सार्थक विचार-विमर्श हेतु साथ लाया जा सके। पहली आईएमसी सितंबर 2017 में आयोजित हुई थी।

मुख्य तथ्य

o भारत में मोबाइल सब्सक्राइबर्स की संख्या 1.2 बिलियन से भी ज्यादा है।
o टेलीकॉम के मामले में भारत एक तेजी से उभरता हुआ देश है।
o आईएमसी के दूसरे संस्करण का विषय है नई डिजिटल होरिज़न्स (NEW DIGITAL HORIZONS)- कनेक्ट करें, बनाएं, नया करें (Connect, Create, innovate).
o इंडिया मोबाइल कांग्रेस में 2,00,000 से अधिक प्रोफेशनल लोग शामिल होंगे जिनमें टेलीकॉम इंडस्ट्री, 5जी, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, स्मार्ट सिटी और आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस जैसे क्षेत्रों के लोग होंगें।
o इस बार के आयोजन में करीब 1,300 से ज्यादा प्रदर्शनी लगेंगी।
o पिछले साल नई दिल्ली में आयोजित इंडिया मोबाइल कांग्रेस में 2,000 डेलीगेट्स, 32,000 विजिटर्स, 152 स्पीकर्स और 100 प्रदर्शनी लगी थी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement