इंडियन आयल कारपोरेशन

1 अप्रैल से भारत में किया जाएगा स्वच्छ डीजल व पेट्रोल का उपयोग

1 अप्रैल, 2020 से भारत यूरो-VI उत्सर्जन के अनुकूल ईंधन का उपयोग शुरू कर देगा, वर्तमान में भारत में यूरो-IV ग्रेड ईंधन का उपयोग करता है। यूरो-VI इंधन अपेक्षाकृत स्वच्छ ईंधन है।

मुख्य बिंदु

यूरो-VI ग्रेड के इस्तेमाल करने के साथ ही भारत उन चुनिन्दा देशों की श्रेणी में शामिल हो जाएगा को शुद्ध व स्वच्छ ईंधन का उपयोग करते हैं। इस ईंधन में सल्फर बहुत कम (10 parts per million of Sulphur) पाया जाता है। बड़े शहरों में सल्फर उत्सर्जन प्रदूषण का एक प्रमुख कारण है।

इंडियन आयल कारपोरेशन व अन्य अग्रणी तेल शोधन कारखाने पहले से BS-VI पेट्रोल व डीजल को अंगीकृत कर चुके हैं। भारत स्वच्छ ईंधन की ओर अग्रसर हो चुका है।

भारत ने 2010 में यूरो II (BS-III के समान) ईंधन का उपयोग शुरू किया किया था, इसमें 350 पार्ट्स पर मिलियन सल्फर पाया जाता है। सात वर्ष बाद भारत ने BS-IV ईंधन का उपयोग शुरू किया, इसमें 50 ppm सल्फर पाया जाता है। इसके केवल तीन वर्ष के बाद ही भारत में BS-VI ईंधन का उपयोग शुरू हुआ। दिल्ली और इसके आस-पास के इलाकों में अप्रैल, 2019 से ही BS-VI ईंधन का उपयोग किया जा रहा है।

वर्ष 2000 में बेंजीन सीमा 5% थी, 2019 में इसे घटाकर 1% कर दिया गया था। इसके अलावा ईंधन में लेड की मात्रा को भी कम किया गया है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

2018-19 में बीएसएनएल, एयर इंडिया और MTNL सबसे ज्यादा घाटे में रहने वाली सरकारी कंपनियां रहीं : सार्वजनिक उद्यम सर्वेक्षण

10 फरवरी, 2020 को केन्द्रीय भारी उद्योग मंत्रालय के अधीन सार्वजनिक उद्यम विभाग ने ‘सार्वजनिक उद्यम सर्वेक्षण’ को प्रस्तुत किया। इस रिपोर्ट के अनुसार पिछले वर्ष के मुकाबले सार्वजनिक उद्यमों के शुद्ध लाभ में 15.5% की वृद्धि हुई है।

मुख्य बिंदु

2018-19 में बीएसएनएल, एयर इंडिया और MTNL सबसे ज्यादा घाटे में रहने वाली सरकारी कंपनियां रहीं। यह कंपनियां पिछले तीन वर्षों से लगातार घाटे में चल रहीं हैं। इस सर्वेक्षण के अनुसार ONGC, NTPC और इंडियन आयल कारपोरेशन सबसे ज्यादा लाभ कमाने वाली सरकारी कंपनियां रही। 2018-19 में केन्द्रीय सार्वजनिक उद्यमों से प्राप्त होने वाली आय 20 लाख करोड़ रुपये थी। जबकि उससे पिछले वर्ष यह आय 20 लाख करोड़ रुपये थी।

देश में कुल 348 केन्द्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम है। इनमें 249 ऑपरेशनल हैं, जबकि 13 उद्यमों को बंद किया जा रहा है अथवा इनका परिसमापन किया जा रहा है। जबकि 86 उद्यमों का विकास किया जा रहा है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , ,

Advertisement