इंडोनेशिया

इंडोनेशिया के सुलावेसी द्वीप पर स्थित माउंट सोपुतन ज्वालामुखी में हुआ विस्फोट

मध्य इंडोनेशिया के माउंट सोपुतन ज्वालामुखी में 16 दिसम्बर, 2018 को विस्फोट हुआ जिससे निकलने वाली राख आसमान में 7.5 किलोमीटर दूर तक जा पहुंची। इस ज्वालामुखी में एक ही दिन में दो बार विस्फोट हुआ। यह इंडोनेशिया के सबसे सक्रीय ज्वालामुखियों में से एक है। यह इंडोनेशिया के सुलावेसी द्वीप पर स्थित है।

इंडोनेशिया में लगभग 129 सक्रीय ज्वालामुखी हैं। इंडोनेशिया “रिंग ऑफ़ फायर” पर स्थित, इसलिए यहाँ पर भूकंप और ज्वालामुखी का खतरा बना रहा है। इंडोनेशिया के सबसे सक्रीय ज्वालामुखी केलुद और मेरापी हैं। यह दोनों ज्वालामुखी इंडोनेशिया के जावा द्वीप पर स्थित है।

रिंग ऑफ़ फायर

रिंग ऑफ़ फायर प्रशांत महासागर में स्थित एक विशिष्ठ क्षेत्र है, यह लगभग 25,000 मील में फैला हुआ है। इस क्षेत्र में विश्व के 75% ज्वालामुखी स्थित है। इस क्षेत्र में यूरेशियन, उत्तर अमेरिकी, जुआन डी फुका, कोकोस, कॅरीबीयन, नाजका, अंटार्कटिक, भारतीय, ऑस्ट्रेलियाई इत्यादि कई भू-भूखंड (टेक्टोनिक प्लेट्स) आपस में मिलती हैं। जिस कारण इस क्षेत्र में ज्वालामुक्हू विस्फोट तथा भूकंप की घटनाएँ होती हैं। इससे प्रशांत महासागर में कई गहरी खाईयों का निर्माण हुआ है, मरियाना ट्रेंच में इनमे से एक है, यह विश्व की सबसे गहरी समुद्री खाई है।

(नीचे दिए गये चित्र में “रिंग ऑफ़ फायर” क्षेत्र को दर्शाया गया है)

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

सुनामी से प्रभावित इंडोनेशिया की सहायता के लिए भारत ने लांच किया ऑपरेशन समुद्र मैत्री

भारत ने हाल ही में भूकंप और सुनामी से प्रभावित इंडोनेशिया की सहायता के लिए ऑपरेशन समुद्र मैत्री शुरू किया है। इस प्राकृतिक आपदा से प्रभावित लोगों की सहायता के लिए भारत ने दो एयरक्राफ्ट तथा तीन नौसैनिक पोतों में राहत सामग्री भेजी है।

मुख्य बिंदु

ऑपरेशन समुद्र मैत्री एक मानवीय सहायता ऑपरेशन है। भारत ने दो एयरक्राफ्ट सी-130J तथा C-17 को मेडिकल स्टाफ तथा राहत सामग्री के साथ रवाना किया। C-130J एयरक्राफ्ट में मेडिकल टीम के साथ टेंट तथा अस्थायी अस्पताल बनाने के लिए उपकरण इत्यादि भेजे गए हैं। C-17 एयरक्राफ्ट में दवाएं, जनरेटर, टेंट तथा जल इत्यादि राहत सामग्री भेजी गयी है। इसके अतिरिक्त तीन भारतीय नौसैनिक पोत भी इंडोनेशिया भेजे गए हैं, यह पोत आईएनएस तीर, आईएनएस सुजाता तथा आईएनएस शार्दुल हैं। ये पोत 6 अक्टूबर को इंडोनेशिया के सुलावेसी प्रांत में पहुचेंगी।

पृष्ठभूमि

इंडोनेशिया में भूकंप और सुनामी के कारण जान-माल का काफी नुकसान हुआ है। इससे इंडोनेशिया के मध्य प्राप्त सुलावेसी में काफी नुकसान हुआ। इस आपदा में मरने वालों की संख्या 1400 से ऊपर बढ़ चुकी है। इंडोनेशिया में शुक्रवार को 7.5 की तीव्रता का भूकंप आया था जिसके कारण बाद में लगभग 6 मीटर ऊँची सुनामी आई थी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement