इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन

आखिर निज़ामाबाद में EVM की जगह बैलट पेपर से क्यों वोट डाले जायेंगे?

भारत में मौजूदा दौर में विधानसभा तथा लोकसभा चुनाव इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) से होते हैं, परन्तु इस बार तेलंगाना के निज़ामाबाद में बैलट पेपर के द्वारा मतदान किया जायेगा।

निज़ामाबाद में बैलट पेपर का उपयोग क्यों?

दरअसल निज़ामाबाद लोकसभा सीट से कुल 185 प्रत्याशी चुनाव के लिए खड़े हैं। चूंकि एक EVM में केवल 16 उम्मीदवारों के नाम आ सकते हैं और एक पोलिंग स्टेशन पर अधिकतम चार EVM उपयोग की जा सकती हैं, इसलिए इतने अधिक उमीदवारों के लिए मतदान करवाने के लिए चुनाव आयोग को मजबूरन बैलट पेपर का उपयोग करना पड़ेगा।

185 उम्मीदवारों में से 178 उम्मीदवार हल्दी और जवार की खेती करते हैं। दरअसल वे किसान अपनी फसल की उचित कीमत प्राप्त करने की मांग को रेखांकित करना चाहते हैं।

हालाँकि निज़ामाबाद लोकसभा सीट के लिए लगभग 200 लोगों ने नामांकन भरा था, परन्तु कुछ एक उम्मीदवारों के नामांकन पत्र रद्द हो गये। जबकि चार उम्मीदवारों ने अपना नाम वापस ले लिया।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव की पुत्री के. कविता निज़ामाबाद से मौजूदा लोकसभा सांसद हैं।

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement