उत्तर-पूर्व

मणिपुर के फिल्ममेकर ने नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में पद्म श्री वापस करने का निर्णय लिया

मणिपुर के फिल्ममेकर अरिबम श्याम शर्मा ने नागरिकता संशोधन बिल, 2016 के विरोध में पद्म श्री पुरस्कार वापस करने का निर्णय लिया है।

लोकसभा में नागरिकता (संशोधन) विधेयक

  • इस बिल के द्वारा बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान के प्रताड़ित हिन्दू, जैन, सिख, इसाई, बौद्ध तथा पारसी नागरिकों को भारत की नागरिकता प्रदान की जाएगी।
  • यह बिल देश के सभी राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों पर लागू होगा, इस बिल के लाभार्थी व्यक्ति देश की किसी भी भाग में रह सकते हैं।
  • इस बिल के द्वारा उन लोगों को काफी राहत मिलेगी जो पड़ोसी देशों से आकर गुजरात, राजस्थान, दिल्ली मध्य प्रदेश इत्यादि राज्यों में रह रहे हैं।
  • रिपोर्ट के अनुसार प्रताड़ित धार्मिक अल्पसंख्यकों के लिए सरकार 31 दिसम्बर, 2014 को कट ऑफ डेट निश्चित कर सकती है।

केन्द्रीय गृह मंत्री ने आशवासन दिया है कि प्रताड़ित प्रवासियों का भार केवल असम द्वारा नहीं बल्कि पूरे देश द्वारा उठाया जायेगा। इस बिल के क्रियान्वयन के लिए राज्यों को केंद्र सरकार द्वारा पूर्ण सहयोग दिया जायेगा।

उत्तर पूर्व में इस बिल का इतना विरोध क्यों किया जा रहा है?

उत्तर-पूर्वी भारत में अप्रवासियों की समस्या काफी संवेदनशील है। चूंकि उत्तर-पूर्व के राज्यों की सीमा बांग्लादेश से लगती है, बांग्लादेश से बड़ी संख्या में अप्रवासी उत्तर-पूर्वी भारत में प्रवेश कर चुके हैं। और कई बार आप्रवासियों तथा स्थानीय लोगों में सांप्रदायिक दंगे हो चुके हैं। इसलिए उत्तर-पूर्व में बड़ी संख्या में लोग इस बिल का विरोध कर रहे हैं तथा आप्रवासियों को वापस भेजने की मांग कर रहे हैं। लोगों का मत है कि नागरिकता बिल के कारण उत्तर-पूर्व पर सामाजिक तथा आर्थिक भार पड़ेगा।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

भारतीय वायुसेना ने पाक्योंग हवाईअड्डे में AN-32 एयरक्राफ्ट को लैंड किया

भारतीय वायुसेना ने पहली बार अन्तोनोव-32 एयरक्राफ्ट को सिक्किम के पाक्योंग हवाईअड्डे पर उतारा। पाक्योंग हवाईअड्डा भारत के सबसे ऊँचे हवाईअड्डों में से एक है।

इस हवाईअड्डे पर सफल लैंडिंग सामरिक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण है। यह हवाईअड्डा भारत-चीन सीमा से मात्र 60 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह हवाईअड्डा समुद्र तल से 4500 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। पिछले कुछ समय में उत्तर-पूर्वी भारत में अधोसंरचना में काफी बड़े स्तर पर कार्य किया जा रहा है।

पाक्योंग हवाईअड्डा

पाक्योंग हवाईअड्डा सिक्किम का पहला हवाईअड्डा है, यह सिक्किम की राजधानी गंगटोक से 30 किलोमीटर दूर स्थित है। इसके रनवे की लम्बाई 1700 मीटर है। पाक्योंग हवाईअड्डा देश का 100वां ऑपरेशनल हवाईअड्डा है। इस हवाईअड्डे के उद्घाटन के अवसर पर नागरिक विमानन सुरेश प्रभु ने अपने वक्तव्य में कहा की आजादी की 67 साल बाद देश में केवल 65 हवाईअड्डे थे, जबकि पिछले चार वर्षों में ही 35 नए हवाई अड्डे बनाये गये हैं। उन्होंने अगले 10-15 वर्षों में 100 नए हवाईअड्डे निर्मित करने के योजना पर भी प्रकाश डाला।

पाक्योंग हवाईअड्डे से सिक्किम के लोगों तथा पर्यटकों को काफी सहूलियत होगी। इससे पहले कलकत्ता से सिक्किम सड़क मार्ग अथवा रेलमार्ग पर 10 घंटे की यात्रा करनी पड़ती थी, हवाईअड्डा शुरू होने के बाद अब यह यात्रा मात्र 75 मिनट में की जा सकती है। 16 अक्टूबर से पाक्योंग और गुवाहाटी के बीच उड़ान की शुरुआत होगी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

Advertisement