एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्स

CCEA ने 2021-22 तक देश में 75 अतिरिक्त सरकारी मेडिकल कॉलेजों स्थापना को मंज़ूरी दी

आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति (CCEA) ने देश में 2021-22 तक 75 अतिरिक्त सरकारी मेडिकल कॉलेजों की स्थापना को मंज़ूरी दे दी है। इन कॉलेजों को पहले से मौजूद जिला/रेफरल अस्पताल के साथ जोड़ा जायेगा। इन कॉलेजों की स्थापना उन क्षेत्रों में की जाएगी जहाँ पर कम से कम 200 बिस्तर वाले कोई भी जिला अस्पताल नहीं है। इसके लिए एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्स को प्रमुखता दी जायेगी।

नए मेडिकल कॉलेजों की स्थापना के लाभ

इससे क्वालिफाइड हेल्थ प्रोफेशनल्स की उपलब्धता में वृद्धि होगी, इसके द्वारा स्वास्थ्य क्षेत्र में सुधार होगा। इससे देश में 15,700 MBBS की सीटें भी सृजित होंगी।

केंद्र सरकार देश में स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए अधोसंरचना के निर्माण पर काफी कार्य कर रही है, इसी सन्दर्भ में केंद्र सरकार ने बड़े पैमाने पर मेडिकल कॉलेजों की स्थापना पर बल दिया है। गौरतलब है कि इन प्रस्तावित कॉलेजों में 39 मेडिकल कॉलेज क्रियाशील हो चुके हैं। जबकि 19 कॉलेज 2020-21 तक क्रियाशील हो जायेंगे। दूसरे चरण में 18 नए मेडिकल कॉलेजों की स्थापना के लिए मंज़ूरी दी गयी है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

SIDBI ने लांच किया उद्यम अभिलाषा अभियान

सिडबी (भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक) ने 2 अक्टूबर, 2018 को गाँधी जयंती के अवसर पर “उद्यम अभिलाषा” नामक अभियान शुरू किया, राष्ट्रीय  स्तर का उद्यमी जागरूकता अभियान है। इस अभियान को नीति आयोग द्वारा चिन्हित 115 एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्स में चलाया जायेगा।

मुख्य बिंदु

इस अभियान के द्वारा देश भर में लगभग 15,000 युवाओं तक इस अभियान को पहुँचाया जायेगा। यह अभियान 3 अक्टूबर से 8 अक्टूबर, 2018 तक देश भर में चलेगा। इस अभियान में 800 प्रशिक्षकों के कैडर का गठन किया जायेगा, यह कैडर महत्वकांक्षी युवाओं को उद्यमशीलता के लिए प्रशिक्षण प्रदान करेंगे।

उद्देश्य

ग्रामीण युवाओं को अपना उद्यम शुरू करने के लिए सहायता करना।

देश भर में डिजिटल माध्यम से प्रशिक्षण प्रदान करना।

महिलाओं में उद्यमशीलता को बढ़ावा देना।

युवाओं को अपना उद्यम शुरू करने के लिए बैंक से ऋण प्राप्त करने में सहायता करना।

भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (सिडबी)

भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक भारत की स्वतंत्र वित्तीय संस्था है जो सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों की वृद्धि एवं विकास के लक्ष्य से स्थापित किया गया है। यह लघु उद्योग क्षेत्र के संवर्द्धन, वित्तपोषण और विकास तथा इसी तरह की गतिविधियों में लगी अन्य संस्थाओं के कार्यां में समन्वयन के लिए एक प्रमुख विकास वित्तीय संस्था है। 2 अप्रैल 1990 को भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक की स्थापना हुई।
दि बैंकर, लंदन की हालिया रैंकिंग में भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक ने विश्व के 30 सर्वोच्च विकास बैंकों में अपनी जगह बनाए रखी है । दि बैंकर, लंदन के मई 2001 अंक के अनुसार पूँजी व आस्तियों की दृष्टि से भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक का स्थान 25वाँ था।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

Advertisement