ओडिशा

1 अप्रैल : ओडिशा दिवस

प्रतिवर्ष 1 अप्रैल को ओडिशा दिवस मनाया जाता है, इस दिवस पर ओडिशा का  निर्माण हुआ था। ओडिशा को ब्रिटिश भारत का प्रांत बनाया गया था।

ओडिशा की टाइमलाइन

  • 1912 में बिहार और उड़ीसा को बंगाल से अलग किया गया और बिहार व उड़ीसा को अलग प्रांत बनाया गया।
  • 1 अप्रैल, 1936 में बिहार व उड़ीसा प्रांत का विभाजन अलग-अलग प्रांत में किया गया।
  • 1 अप्रैल, 1936 को उड़ीसा प्रांत अस्तित्व में आया, सर जॉन ऑस्टिन हब्बक को ओडिशा का गवर्नर नियुक्त किया गया।
  • स्वतंत्रता के बाद ओडिशा का क्षेत्रफल लगभग दोगुना हो गया और इसकी जनसँख्या में एक तिहाई की वृद्धि हुई। इसमें 24 पूर्व राजसी रियासतों को शामिल किया गया था।
  • उड़ीसा का नाम 2011 में बदलकर ओडिशा कर दिया गया था, यह ओड़िया भाषा का शब्द है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

‘मो जीबन कार्यक्रम’ क्या है?

COVID-19 के प्रसार को रोकने के लिए ओडिशा सरकार द्वारा “मो जीबन कार्यक्रम” शुरू किया गया है। इस कार्यक्रम का शुभारंभ ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने किया।

मुख्य बिंदु

‘मो जीबन’ का अर्थ है ‘मेरा जीवन’। इस कार्यक्रम के माध्यम से राज्य सरकार लोगों से घर के अंदर रहने की अपील करती है।  इस कार्यक्रम के द्वारा कामकाजी आबादी से अनुरोध किया गया है कि वे अपने बच्चों और माता-पिता के नाम पर शपथ लेने के लिए सहयोग करें और घर से बाहर कदम न रखकर सहयोग करें। इसके द्वारा कम से कम 20 सेकंड के लिए हाथ धोने के बारे में जागरूकता फैलाई जा रही है।

अन्य उपाय

ओडिशा सरकार ने वायरस से लड़ने के लिए 200 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं। वर्तमान में ओडिशा में 80,000 से अधिक लोग हैं जो विदेश से लौटे हैं। इन लोगों को 14 दिनों के लिए घरेलू संगरोध के तहत रहने का निर्देश दिया गया है। ओडिशा सरकार ने पीपीपी मॉडल के तहत 2 अलग अस्पताल भी शुरू किए हैं। वर्तमान में ओडिशा में COVID-19 से संक्रमित लोगों की संख्या 3 है और भारत में यह संख्या लगभग 700 है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement