कंप्यूटर सहायतित व्यक्तिगत साक्षात्कार

केरल और मिज़ोरम 100 फीसदी खुले में शौच मुक्त वाले राज्य बने

केरल और मिज़ोरम एक सरकारी-कमीशन सर्वेक्षण द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार 100 फीसदी खुले में शौच मुक्त (open defecation free) वाले राज्य बन गए हैं। जबकि उत्तर प्रदेश और बिहार इस रैंकिंग में सबसे नीचे हैं। इन दोनों राज्यों में केवल 44 फीसदी घर ही खुले में शौच मुक्त हैं।
सर्वेक्षण का संपूर्ण कार्य कंप्यूटर सहायतित व्यक्तिगत साक्षात्कार नामक प्लेटफॉर्म के माध्यम से संपादित किया गया। स्वतंत्र सर्वेक्षण एजेंसी द्वारा इस सर्वेक्षण के परिणाम राष्ट्रीय वार्षिक ग्रामीण स्वच्छता सर्वेक्षण के प्रबंधन हेतु गठित एक्सपर्ट वर्किंग ग्रुप के समक्ष प्रस्तुत किये गए। एक्सपर्ट वर्किंग ग्रुप में विश्व बैंक, यूनिसेफ, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन, इंडिया सैनिटेशन कोअलिशन, सुलभ इंटरनेशनल, नॉलेज लिंक्स समेत नीति आयोग एवं सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय सदस्य हैं।

मुख्य तथ्य

-भारत के साठ फीसदी ग्रामीण परिवारों ने राष्ट्रीय वार्षिक स्वच्छता सर्वेक्षण 2017-18 के अनुसार इस बात को स्वीकार किया है कि आवश्यकता पड़ने पर उनके सभी सदस्य शौचालय का इस्तेमाल करते हैं, जिसका अर्थ है कि वे खुले में शौच नहीं करते हैं।
-स्वच्छ भारत अभियान के शुभारंभ के साढ़े तीन साल बाद राष्ट्रीय वार्षिक स्वच्छता सर्वेक्षण द्वारा ये आँकड़े प्रस्तुत किये गए। सर्वेक्षण के अनंतिम सारांश रिपोर्ट में यह पाया गया कि सभी ग्रामीण परिवारों में से तकरीबन 77 फीसदी परिवारों तक शौचालय की पहुँच सुनिश्चित की जा चुकी है। साथ ही इनमें से लगभग 93.4 फीसदी लोगों द्वारा नियमित रूप से शौचालय का उपयोग किया जा रहा है।
-पूरे देश में लगभग 68 फीसदी घर इस मानदंड पर खरे उतरते हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement