कश्मीर

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाये जाने की घोषणा की पहली वर्षगाँठ

आज 5 अगस्त, 2020 को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाये जाने की घोषणा की पहली वर्षगाँठ है।

5 अगस्त, 2020 को केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने की घोषणा की थी। इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन का पुनर्गठन किया गया। लद्दाख को जम्मू-कश्मीर से अलग करके केंद्र शासित प्रदेश बनाया गया, परन्तु इसकी कोई विधानसभा नहीं है। दूसरी ओर जम्मू-कश्मीर को भी  केंद्र शासित प्रदेश बनाया गया।  इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा भी समाप्त हो गया।

अनुच्छेद 370

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 के द्वारा जम्मू-कश्मीर राज्य को स्वायत्ता प्रदान की गयी थी। इस अनुच्छेद के द्वारा जम्मू-कश्मीर के निम्नलिखित 6 विशेष प्रावधान किये गये थे :

  • इस अनुच्छेद के द्वारा जम्मू-कश्मीर को भारतीय संविधान के दायरे से बाहर रखा गया है, जम्मू-कश्मीर राज्य का अपना अलग संविधान है।
  • जम्मू-कश्मीर पर केन्द्रीय विधानपालिका की शक्तियां सीमित हैं। केवल रक्षा, विदेश मामले तथा संचार पर ही केन्द्रीय विधानपालिका का नियंत्रण है।
  • राज्य सरकार की सहमती के पश्चात् ही जम्मू-कश्मीर में केन्द्रीय विधानपालिका की संवैधानिक शक्तियों को बढ़ाया जा सकता है।
  • यह सहमती अस्थायी होगी, इसके लिए राज्य विधानसभा में पारित करना आवश्यक है।
  • शक्तियों के विभाजन के सन्दर्भ में राज्य संविधान सभा की भूमिका काफी महत्वपूर्ण है।
  • अनुच्छेद 370 को राज्य संविधान सभा की सिफारिश पर ही हटाया जा सकता है अथवा इसमें संशोधन किया जा सकता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

2019 में भारत सैन्य व्यय में विश्व में तीसरे स्थान पर रहा : SIPRI

स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (SIPRI) की हालिया वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका 2019 में 732 अरब डॉलर के साथ दुनिया में सबसे अधिक सैन्य खर्च करने वाला है। यह पहली बार हुआ है जब दो एशियाई देशों चीन और भारत ने शीर्ष-तीन पदों पर कब्जा किया है। 2019 में चीन का सैन्य खर्च 261 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया, इसमें पिछले वर्ष की तुलना में 5.1% की वृद्धि हुई है। भारत का सैन्य खर्च 6.8% बढ़कर 71.1 बिलियन तक पहुंच गया है।

मुख्य बिंदु

विश्व के तीन शीर्ष सैन्य खर्चों के बाद रूस और सऊदी अरब क्रमशः चौथे और पांचवें स्थान पर हैं। शीर्ष तीन सैन्य खर्च करने वाले देशों की हिस्सेदारी विश्व सैन्य खर्च में 62% है।

वैश्विक सैन्य व्यय

2018 की तुलना में 2019 में कुल सैन्य व्यय में 3.6% की वृद्धि हुई। 2019 में वैश्विक व्यय 2 ट्रिलियन डालर था। 2008 के वैश्विक वित्तीय संकट के बाद से यह सबसे अधिक सैन्य खर्च है।

भारत

इस रिपोर्ट के अनुसार कश्मीर मुद्दे को लेकर पाकिस्तान के साथ बढ़ते तनाव के कारण भारत का सैन्य खर्च बढ़ गया है। 2019 में भारत ने अपनी सेना पर 71.1 बिलियन अमरीकी डालर खर्च किए हैं। 2018 की तुलना में इसमें 6.8% की वृद्धि हुई है।

अमेरिका

इस रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका का सैन्य व्यय विश्व में सर्वाधिक है। 2019 में अमेरिका ने सेना के लिए 732 बिलियन अमरीकी डालर खर्च किए थे। यह 2018 की तुलना में 5.3% अधिक है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

Advertisement