कुल्लू

हिमाचल प्रदेश में अंतर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरे का शुभारम्भ हुआ

हिमाचल प्रदेश के प्रसिद्ध कुल्लू दशहरे का उद्घाटन 8 अक्टूबर को  राज्य के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने किया। इस दौरान राज्यपाल ने भगवान् रघुनाथ की अंतर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा का आयोजन हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में ढालपुर मैदान में किया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरे का आयोजन बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है। इसमें कुल्लू जिले के 225 से अधिक देवी-देवता शामिल होते हैं। कुल्लू दशहरा 14 अक्टूबर को समाप्त होगा।

इतिहास व महत्व

अंतर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा का आयोजन कुल्लू में अक्टूबर माह में किया जाता है, इस मेले में देश-विदेश से 1 से 1.5 लाख लोग आते हैं। इसकी शुरुआत विजयदशमी के दिन होती है, यह मेला सात दिनों तक चलता है। इसकी शुरुआत 17वीं शताब्दी में हुई थी जब स्थानीय राजा जगत सिंह ने भगवान् रघुनाथ की प्रतिमा की स्थापना की थी। तत्पश्चात भगवान् रघुनाथ को कुल्लू घाटी का शासक देवता घोषित किया गया। इस मेले के दौरान भगवान् रघुनाथ को प्रतिमा को रथ में ले जाया जाता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

हिमाचल प्रदेश ने ट्रैकर्स के लिए जीपीएस डिवाइस को अनिवार्य किया

हिमाचल प्रदेश सरकार ने ट्रैकर्स के लिए जीपीएस डिवाइस अपने साथ ले जाना अनिवार्य कर दिया है, इससे किसी विपरीत स्थिति से निपटने में सहायता मिलेगी। यह निर्णय मानसून की तैयारी की समीक्षा के लिए बैठक में लिया गया है, इस बैठक की अध्यक्षता अतिरिक्त मुख्य सचिव तथा हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के प्रधान सचिव श्रीकांत बल्दी ने की।

मुख्य बिंदु

हिमाचल प्रदेश में प्राकृतिक आपदा की सम्भावना काफी अधिक होती है, इसलिए राज्य में मौसम सम्बन्धी सूचना का प्रसारण तथा अर्ली वार्निंग सिस्टम की स्थापना किया जाना आवश्यक है। ख़राब मौसम में ट्रैकिंग तथा यात्रा इत्यादि पर भी पाबंदी लगाई जाने ज़रूरी है।

शीघ्र ही हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले तथा डलहौज़ी कसबे में अर्ली वार्निंग सिस्टम की स्थापना की जायेगी। मंडी तथा रामपुर कस्बे में राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल (NDRF) के बचाव व राहत बेस की स्थापना की जायेगी।

हिमाचल प्रदेश

  • हिमाचल प्रदेश के उत्तर में जम्मू-कश्मीर, पूर्व में तिब्बत, दक्षिण-पूर्व में उत्तराखंड, दक्षिण में हरियाणा तथा पश्चिम में पंजाब स्थित है।
  • हिमाचल प्रदेश को 25 जनवरी, 1971 को पूर्ण राज्य का दर्ज़ा मिला था, यह भारत का 18वां राज्य था।
  • हिमाचल प्रदेश की दो राजधानियां हैं : शिमला और धर्मशाला (शीतकालीन राजधानी) ।
  • भूकंप जोन : BIS भूकंप जोन मानचित्र के अनुसार हिमाचल प्रदेश जोन IV (उच्च नुकसान व खतरा) तथा जोन V (भूकंप का सबसे सक्रीय क्षेत्र) में आता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement