केंद्र सरकार

केंद्र सरकार ने केंद्रीय गृह मंत्री पदक का अनुमोदन किया

सरकार ने देश में राज्‍य और संघ शासित प्रदेश पुलिस तथा केंद्रीय अन्‍वेषण एजेंसियों में अपराधों के अन्‍वेषण (जांच पड़ताल) के उच्‍च पेशेवर मानकों की प्रोन्‍नति हेतु पुलिस अन्‍वेषण में उत्‍कृष्‍टता हेतु ‘केंद्रीय गृह मंत्री पदक’ की शुरूआत के प्रस्‍ताव का अनुमोदन किया है.

मुख्य तथ्य

-पुलिस के उप-निरीक्षक से अधीक्षक तक के अधिकारी इसके पात्र होंगे.
-पिछले तीन वर्षों के औसत अपराध आंकड़ों के आधार पर प्रति वर्ष 162 पदक प्रदान किए जाएंगे. 137 पदक राज्‍यों और संघ शासित प्रदेशों तथा 25 केंद्रीय अन्‍वेषण एजेंसियों जैसे की राष्‍ट्रीय अन्‍वेषण एजेंसी (एनआईए), केंद्रीय अन्‍वेषण ब्‍यूरो (सीबीआई) तथा मादक पदार्थ नियंत्रण ब्‍यूरो (एनसीबी) के लिए होंगे.
-राज्‍यों और संघ शासित प्रदेशों में पदक वितरण उनके द्वारा पंजीकृत भारतीय दंड संहिता अपराध के औसत मामलों तथा राष्‍ट्रीय अपराध अभिलेख ब्‍यूरो (एनसीआरबी) द्वारा 2013, 2014 तथा वर्ष 2015 के दौरान प्रकाशित अपराध आंकड़ों के आधार पर होगा.
-औसत अपराध आंकड़ों के आधार पर प्रत्‍येक तीन वर्ष के उपरांत पदक वितरण की समीक्षा की जाएगी. महिला अन्‍वेषकों के लिए पदकों में कोटे की व्‍यवस्‍था होगी.
-अपर महानिदेशक के ओहदे के अधिकारी के नेतृत्‍व में गठित राज्‍य स्‍तरीय समिति की सिफारिशों के आधार पर राज्‍यों / संघ शासित प्रदेशों / केंद्रीय अन्‍वेषण एजेंसियों से पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो द्वारा नामांकन आमंत्रित किए जाएंगे.
-पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो में जांच समिति द्वारा इन नामांकनों पर आगे कार्यवाही की जाएगी तथा गृह मंत्रालय में स्‍वीकृति समिति द्वारा अनुमोदन किया जाएगा.

पुरस्‍कार पाने वालों की घोषणा

पुरस्‍कार पाने वालों के नामों को हर साल 15 अगस्‍त को घोषित किया जाएगा . प्रत्‍येक विजेता को पदक के साथ-साथ केंद्रीय गृह मंत्री द्वारा हस्‍ताक्षरित एक प्रमाण-पत्र भी प्रदान किया जाएगा तथा उनके नाम भारत के राजपत्र में प्रकाशित किए जाएंगे.

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

सरकार ने लॉन्च किया बायॉडिग्रेडिबल सैनिटरी नैपकिन, कीमत 2.50 रुपये

सरकार ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर ‘आधी आबादी’ को बड़ा तोहफा दिया है। सरकार ने बायॉडिग्रेडिबल सैनिटरी नैपकिन लॉन्च किया। प्रति पैड 2.50 रुपये की कीमत पर इसे प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना केंद्रों से खरीदा जा सकता है। सैनिटरी नैपकिन के एक पैक में 4 पैड होंगे और कीमत 10 रुपये होगी। रसायन और उर्वरक मंत्री ने कहा कि 28 मई, 2018 को अंतरराष्ट्रीय मासिक धर्म स्वच्छता दिवस से देश के सभी जन-औषधि केंद्रों पर यह नैपकीन बिक्री के लिए उपलब्ध रहेगा। मंत्री ने कहा कि रसायन और उर्वरक मंत्रालय के तहत आने वाला फार्माशूटकल डिपार्टमेंट ‘सुविधा’ नाम से सैनिटरी नैपकिन लॉन्च कर रहा है।

बाजार में 4 सैनिटरी नैपकिन की औसत कीमत 32 रुपये है, सरकार ने इतने ही ऑक्सो-बायॉडिग्रेडिबल पैड्स को 10 रुपये में उपलब्ध कराया है। यह वंचित महिलाओं के लिए स्वच्छता, स्वास्थ्य और सुविधा सुनिश्चित करेगी। उन्होंने कहा कि बाजार में उपलब्ध अन्य सैनिटरी नैपकिन नॉन बायॉडिग्रेडेबल हैं जबकि ये बायॉडिग्रेडेबल हैं।
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के दिन सभी महिलाओं के लिए यह एक विशेष उपहार है, क्योंकि यह उत्पाद किफायती और स्वास्थ्यकर होने के साथ ही इस्तेमाल और निपटान में आसान है।’

15 से 24 साल तक की 58 प्रतिशत महिलाएं राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण 2015-16 के अनुसार स्थानीय स्तर पर तैयार नैपकीन, सैनिटरी नैपकीन , रूई के फाहे का इस्तेमाल करती हैं। शहरी क्षेत्रों की 78 प्रतिशत महिलाएं पीरियड्स के दौरान सुरक्षा के लिए स्वस्थ विधियां अपनाती हैं। ग्रामीण इलाके की केवल 48 फीसदी महिलाएं साफ-सुथरा सैनिटरी नैपकीन का इस्तेमाल कर पाती हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement