क्षय रोग

वार्षिक टीबी रिपोर्ट 2020 में गुजरात, त्रिपुरा, और नागालैंड का  प्रदर्शन सबसे बेहतर  

2025 तक देश से क्षय रोग (टीबी) को खत्म करने पर ध्यान देने के साथ, जनवरी 2020 में भारत सरकार ने ‘राष्ट्रीय क्षय रोग नियंत्रण कार्यक्रम’ का नाम बदलकर ‘राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम’ कर दिया था। हाल ही में  वार्षिक टीबी रिपोर्ट 2020 पर जारी की गयी है।

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु

  • भारत में 2019 में नए मामले: 24.04 लाख। यह 2018 की तुलना में, टीबी अधिसूचना में 14% की वृद्धि है। 24.04 लाख नए मामलों में से 6,64,584 मामले निजी हेल्थकेयर सेक्टर द्वारा रिपोर्ट किये गये हैं।
  • ‘निक्षय’ प्रणाली के तहत 4 योजनाओं के लाभार्थियों को प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (DBT) के माध्यम से प्रदान की जाने वाली वित्तीय सहायता का विस्तृत प्रावधान।
  • देश के लगभग प्रत्येक ग्रामीण क्षेत्र को 4.5 लाख से अधिक डॉट केंद्रों की मदद से कवर किया गया है।

सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्य

राज्यों को उनकी जनसंख्या के आधार पर बड़े और छोटे राज्यों के रूप में विभाजित किया गया था। 50 लाख से अधिक जनसंख्या वाले सभी राज्य बड़े राज्यों के अधीन थे जबकि 50 लाख से कम जनसंख्या वाले राज्य छोटे राज्यों के अधीन थे।

बड़े राज्य की श्रेणी में, गुजरात को सबसे बेहतरीन प्रदर्शन करने वाला राज्य चुना गया है। इस सूची में दूसरे स्थान पर आंध्र प्रदेश और तीसरे स्थान पर हिमाचल प्रदेश है। छोटे राज्यों में, नागालैंड और त्रिपुरा दोनों को सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्य के रूप में सम्मानित किया गया।

केंद्र शासित प्रदेशों में, दादरा नगर हवेली और दमन व दीव को सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले केंद्र शासित प्रदेश के रूप में सम्मानित किया गया।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

24 मार्च : विश्व क्षय रोग दिवस

विश्व क्षय रोग दिवस (World Tuberculosis Day) पूरे विश्व में 24 मार्च को मनाया जाता है। इसका उद्देश्य लोगों को इस बीमारी के विषय में जागरूक करना और क्षय रोग की रोकथाम के लिए कदम उठाना है। विश्व टीबी दिवस को विश्व स्वास्थ्‍य संगठन जैसे संस्थानों से समर्थन मिलता है। भारत में टीबी के फैलने का एक मुख्य कारण इस बीमारी के लिए लोगों का सचेत ना होना और इसे शुरूआती दौर में गंभीरता से ना लेना।

थीम : It’s Time

भारत का योगदान

भारत ने विश्व स्वास्थ्य संगठन की निर्धारित समय सीमा से पांच साल पहले 2025 तक भारत को क्षय रोग मुक्त बनाने लक्ष्य तय किया है। प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले दिनों ‘टीबी उन्मूलन’ शिखर सम्मेलन के दौरान इस बात की घोषणा की।

क्षय रोग

क्षय रोग के फैलने का सबसे बड़ा कारण है इस बीमारी के प्रति लोगों में जानकारी का अभाव। टीबी (क्षय रोग) यानि ट्यूबरक्लोसिस एक संक्रामक रोग है, जो माइकोबैक्टिरीयम ट्यूबरक्यूलोसिस नाम के बैक्टीरिया की वजह से होता है। ये बीमारी हवा के जरिए एक इंसान से दूसरे में फैलती है। सबसे आम फेफड़ों की टीबी है लेकिन ये गर्भाशय, मुंह, लिवर, किडनी, गला,ब्रेन, हड्डी जैसे शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकती है। टीबी बैक्टीरिया शरीर के जिस भी हिस्से में होता है उसके टिश्यू को पूरी तरह से नष्ट कर देता है और उससे उस अंग का काम प्रभावित होता है।

टीबी के लक्ष्ण हैं

खांसते समय बलगम में खून का आना,भूख में कमी, थकान और कमजोरी का एहसास, सीने में दर्द, बार बार खांसना, बुखार, गले में सूजन और पेट में गड़बड़ी का होना।

 

 

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement