चीनी सेना

अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यू में हिस्सा लेने के लिए आईएनएस कोलकाता तथा आईएनएस शक्ति चीन पहुंचे

अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यू 2019 में  दो भारतीय पोत – स्टेल्थ गाइडेड मिसाइल डिस्ट्रॉयर आईएनएस कोलकाता तथा आईएनएस शक्ति ने हिस्सा लिया। इसका आयोजन चीन के किंगदाओ में 23 अप्रैल, 2019 को किया गया। इस कार्यक्रम में चीन की राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी शिरकत की। इसका आयोजन चीनी नौसेना (People’s Liberation Army Navy) की 70वीं वर्षगाँठ के अवसर पर किया जा रहा है।

आईएनएस कोलकाता में आधुनिकतम हथियारों से सुसज्जित है, इसमें विभिन्न किस्म के खतरों को भांपने के लिए राडार लगे हुए हैं। आईएनएस शक्ति सबसे बड़े टैंकरों में से एक है। यह 15,000 टन तरल पदार्थ तथा 500 टन ठोस सामग्री ले जाने में सक्षम है।

अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यू

यह नौसैनिक पोत, एयरक्राफ्ट तथा पनडुब्बियों की परेड है। इसके द्वारा देश अपनी पोत निर्माण क्षमता का प्रदर्शन कर सकते हैं। यह देशों के बीच सद्भाव तथा सहयोग को बढ़ावा देने के लिए काफी उपयोगी है। भारत ने फरवरी, 2016 में अंतर्राष्ट्रीय फ्लीट रिव्यु का आयोजन किया था, इसमें 50 नौसेनाओं तथा लगभग 100 युद्धपोतों ने हिस्सा लिया था।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

चीन ने रक्षा बजट में 7.5% वृद्धि की

चीन ने अपने रक्षा बजट में 7.5% वृद्धि की है, अब चीन का बजट 177.61 अरब डॉलर पर पहुँच गया है। पिछले वर्ष चीन का रक्षा बजट 165 अरब डॉलर था। चीन का रक्षा बजट भारत के रक्षा बजट से लगभग तीन गुणा अधिक है।

चीन का रक्षा बजट

  • 2016 में चीन के रक्षा में 7.6%, 2017 में 7% तथा 2018 में 8.1% की वृद्धि हुई है।
  • 177.61 अरब डॉलर के रक्षा बजट के साथ चीन का रक्षा बजट अमेरिका के बाद विश्व में सर्वाधिक है।
  • चीन अपनी सेना को अत्याधुनिक हार्डवेयर उपलब्ध करवा रहा है। इसके अतिरिक्त चीन स्टेल्थ लड़ाकू विमानों, एयरक्राफ्ट कैरिएर तथा गोला-बारूद पर काफी धन व्यय कर रहा है।
  • चीन ने अपनी सेना में बड़े सुधारों की शुरुआत की है। इसके तहत नौसेना तथा वायुसेना का विस्तार किया जा रहा है।

क्या चीन के रक्षा बजट में वृद्धि चिंताजनक है?

दक्षिण चीन सागर में वियतनाम, फिलीपींस, ब्रूनेई, मलेशिया तथा ताइवान अपना दावा प्रस्तुत करते हैं, इसके अलावा क्षेत्र को लेकर चीन का विवाद जापान से भी काफी लम्बे समय से चल रहा है। इस दृष्टि से चीन द्वारा रक्षा में वृद्धि करना चीन के आक्रामक रुख को प्रदर्शित कर रहा है।

चीन ने रक्षा बजट में वृद्धि को राष्ट्रीय सुरक्षा की दृष्टि से आवश्यक बताया है। चीन ने यह भी तर्क दिया है कि वह कुल सकल घरेलु उत्पाद का केवल 1% हिस्सा ही रक्षा बजट के लिए उपयोग कर रहा है, जबकि अन्य विकसित राष्ट्र अपनी जीडीपी का 2% हिस्सा रक्षा बजट के लिए उपयोग कर रहे हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement