जलवायु परिवर्तन

9वीं भारत जापान ऊर्जा वार्ता नई दिल्ली में आयोजित की गई

9वीं भारत जापान ऊर्जा वार्ता नई दिल्ली में आयोजित की गई । दोनों देशों ने बैठक के समापन पर संयुक्त वक्तव्य जारी किया। ऊर्जा सुरक्षा, ऊर्जा पहुंच और जलवायु परिवर्तन के मुद्दों को लेकर मिलकर काम करने के लिए दोनों देशों ने सहमति व्यक्त की।

संयुक्त वक्तव्य के प्रमिख बिन्दु

० संयुक्त राष्ट्र के जलवायु परिवर्तन फ्रेमवर्क कन्वेंशन ( United Nations Framework Convention on Climate Change) के तहत भारत और जापान निर्धारित योगदान को लागू करने पर सहमत हुए।
० दोनों देशों ने डी-कार्बोनाइजेशन को समझने के लिए हाइड्रोजन समेत अगली पीढ़ी की प्रौद्योगिकियों के विकास और तैनाती के महत्व को समझा ।
० दोनों देश ऊर्जा सुरक्षा, ऊर्जा पहुंच और जलवायु परिवर्तन के मुद्दों पर मिलकर काम करने पर सहमत हुए।
० दोनों देशों ने अच्छी तरह से काम कर रहे ऊर्जा बाजारों को बढ़ावा देने , पारदर्शी और विविध तरलीकृत प्राकृतिक गैस (एलएनजी) बाजार को बढ़ावा देने हेतु मिलकर काम करने की अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त की।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories: /

Month:

Tags: , , , ,

24 मार्च को दुनिया भर में ‘अर्थ आवर’ मनाया गया

दुनिया की कुछ मशहूर इमारतें हर साल एक घंटे के लिए अंधेरे में डूब जाती हैं. ये बिजली संकट की वजह से नहीं बल्कि दुनिया भर में 24 मार्च को ‘अर्थ आवर’ मनाया जाता है . इसका मक़सद दुनिया भर में जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को लेकर जागरूकता फैलाना है. भारत में अनेक महत्वपूर्ण सरकारी भवनों और ऐतिहासिक स्मारकों पर रात साढ़े आठ बजे से साढ़े नौ बजे तक बत्तियां डिम कर दी गईं। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में राष्ट्रपति भवन, इंडिया गेट, केंद्रीय सचिवालय के नार्थ और साउथ ब्लाक में बत्तियां बुझाई गईं। बिजली की बचत के लिए इस अभियान के दौरान मुम्बई में भी गेटवे आफ इंडिया पर बत्तियां बंद की गईं।

अर्थ ऑवर (Earth Hour) क्या है?

यह विश्व वन्यजीव एवं पर्यावरण संगठन द्वारा शुरू किया गया एक अभियान है जिसका उद्देश्य बिजली के महत्व के बारे में और पर्यावरण सुरक्षा के बारे में लोगों को जागरूक करना हैl इसका मुख्यालय सिंगापुर में हैl इसकी शुरुआत साल 2007 में ऑस्ट्रेलिया में हुई थी. साल 2010 में ये दुनिया के 120 देशों में अपनाया गया था.

पृष्ठभूमि

2004 में जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर ऑस्ट्रेलियाई लोगों के विचार जानने के उद्देश्य से विश्व वन्यजीव एवं पर्यावरण संगठन की ऑस्ट्रेलियाई शाखा और विज्ञापन एजेंसी लियो बर्नेट सिडनी के बीच एक विचार-विमर्श गोष्ठी का आयोजन किया गयाl इसमें हुए विचार-विमर्श पर 2006 में “द बिग फ्लिक” नाम से एक ऐसे अभियान की रूपरेखा तैयार की गई जिसका उद्देश्य बड़े स्तर पर देश में बिजली के उपकरणों को बंद करना था | विश्व वन्यजीव एवं पर्यावरण संगठन की ऑस्ट्रेलियाई शाखा ने इस संकल्पना को “लॉर्ड क्लोवर मूर”और सिडनी के मेयर “फेयरफैक्स मीडिया” के सामने प्रस्तुत किया, जिन्होंने इस आयोजन के लिए सहमति प्रदान की थीl 31 मार्च, 2007 को सिडनी, ऑस्ट्रेलिया में स्थानीय समय के अनुसार शाम 7:30 बजे पहली बार अर्थ आवर (Earth Hour) का आयोजन किया गया थाl हर वर्ष मार्च महीने में इसके बाद से पूरे विश्व में एक घंटे के लिए अर्थ आवर (Earth Hour) मनाया जाता है और बिजली के बल्बों को बंद कर दिया जाता हैl

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement