जीडीपी

आईएमएफ: भारत दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बना

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की विश्व आर्थिक आउटलुक (WEO) रिपोर्ट अप्रैल 2018 के मुताबिक, भारत अब 2.6 अरब डॉलर (जीडीपी के अनुसार) के साथ दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बन गया है, जो अब फ्रांस को विस्थापित कर रहा है। शीर्ष पांच अर्थव्यवस्थाएं संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन, जापान, जर्मनी और यूनाइटेड किंगडम हैं।

विश्व आर्थिक आउटलुक रिपोर्ट-2018

2018 में 7.4% और 2019 में 7.8% की वृद्धि दर के साथ भारतीय अर्थव्यवस्था के बढ़ने की उम्मीद है, जिससे दुनिया में यह सबसे तेजी से बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था बन जायेगा। भारत ने हाल के दिनों में संरचनात्मक सुधारों किये है।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष एक अंतर्राष्ट्रीय संस्था है, जो अपने सदस्य देशों की वैश्विक आर्थिक स्थिति पर नज़र रखता है। इसका मुख्यालय वॉशिंगटन डी सी में है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष सदस्य देशों को आर्थिक और तकनीकी सहायता प्रदान करता है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष अन्तर्राष्ट्रीय विनिमय दरों को स्थिर रखने के साथ-साथ विकास को सुगम करने में सहायता करता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

रिजर्व बैंक ने अर्थव्यवस्था के अनुमान हेतु सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) आधारित पैमाने को अपनाया

रिजर्व बैंक ने फिर से अर्थव्यवस्था में वृद्धि अनुमान व्यक्त करने को लेकर सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) आधारित पैमाने को अपना लिया है। वैश्विक स्तर पर अपनाई जा रही पद्यति को रिजर्व बैंक ने इसकी वजह बताया है। केंद्रीय बैंक ने इससे पहले आर्थिक वृद्धि मापने के लिए सकल मूल्य वर्धित (जीवीए) पैमाने को अपनाया था।

मुख्य तथ्य

o सरकार ने जनवरी 2015 से जीवीए फॉर्म्युले को अपनाते हुए आर्थिक वृद्धि के अनुमान का विश्लेषण करना शुरू किया था । इसके साथ जनवरी से आधार वर्ष को बदलकर 2018 कर दिया गया ।

o अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप काम करना जीडीपी पद्वति की तरफ लौटने की मुख्य वजह है। दुनियाभर में ज्यादातर अर्थव्यवस्थाओं के प्रदर्शन को सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में ही मापा जाता है। बहुपक्षीय संस्थानों ने भी इसी पद्यति को अपनाया हैं। अंतरराष्ट्रीय विश्लेषक और निवेशक इसी पद्वति को लेकर विश्लेषण करते हैं। इससे एक दूसरे देश के साथ तुलना करने में भी आसानी होती है।’

o इस साल 15 जनवरी के बाद से केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) ने भी आर्थिक गतिविधियों को मापने के लिये जीडीपी आंकड़ों का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। अप्रैल से शुरू हुए चालू वित्त वर्ष की पहली द्विमासिक तिमाही समीक्षा में रिजर्व बैंक की मुख्य नीतिगत रेपो दर को 6 प्रतिशत पर स्थिर रखा गया है।जीडीपी वृद्धि दर पिछले वित्त वर्ष के 6.6 प्रतिशत से बढ़कर चालू वित्त वर्ष में 7.4 प्रतिशत पर पहुंच जाने का अनुमान है।

जीवीए फॉर्म्युले में जहां उत्पादक या आपूर्ति पक्ष की तरफ से आर्थिक गतिविधियों की तस्वीर पेश की जाती है वहीं जीडीपी नमूने में उपभोक्ता पक्ष या मांग के परिपेक्ष में आर्थिक गतिविधियों का अनुमान लगाया जाता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement