झाओ केंझी

भारत और चीन ने सुरक्षा सहयोग के लिए समझौते पर किये हस्ताक्षर

भारत और चीन ने हाल ही में आन्तरिक सुरक्षा सहयोग के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं। इस समझौते पर केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह तथा चीन के स्टेट कौंसिलर तथा जन सुरक्षा मंत्री झाओ केझी ने नई दिल्ली में हस्ताक्षर किये।

मुख्य बिंदु

आन्तरिक सुरक्षा पर किये गये इस समझौते का उद्देश्य दोनों देशों के बीच आतंकवाद के विरुद्ध सहयोग, व्यवस्थित अपराध, नशीली दवाओं पर नियंत्रण, मानव तस्करी के विरुद्ध सहयोग को बढ़ावा देना है। इस समझौते के तहत दोनों देशों उपरोक्त मसलों पर सूचना को एक-दूसरे से साझा करेंगे। इस समझौते में सूचना साझा, एक्सचेंज प्रोग्राम तथा आपदा न्यूनीकरण में सहयोग इत्यादि भी शामिल है।

प्रथम उच्च स्तरीय बैठक  

इस समझौते के बाद सुरक्षा सहयोग को लेकर पहली द्विपक्षीय उच्च स्तरीय बैठक का आयोजन किया गया। इसकी अध्यक्षता राजनाथ सिंह तथा झाओ केझी ने की। इस बैठक  में दोनों देशों ने आतंकवाद के विरुद्ध सहयोग पर चर्चा की तथा दोनों देशों के बीच सुरक्षा के क्षेत्र में सहयोग की पहल का स्वागत किया।

झाओ केझी 30 सदस्यीय चीनी राजनयिकों के दल का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं, यह दल 21 अक्टूबर से 25 अक्टूबर, 2018 के बीच की अवधि के लिए भारत की यात्रा पर आया है। झाओ केझी चीन के स्टेट कौंसिलर तथा जन सुरक्षा मंत्री हैं, वे चीन में दैनिक कानून व्यवस्था के लिए उत्तरदायी हैं, वे लगभग 19 लाख कर्मचारियों का प्रबंधन करते हैं। राजनाथ सिंह 8 केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बलों के प्रमुख हैं, जिनके कर्मचारियों की कुल संख्या लगभग 10 लाख है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement