तम्बाकू निषेध

पंजाब बना हुक्का बार पर प्रतिबन्ध लगाने वाला देश का तीसरा राज्य

पंजाब हुक्का बार पर प्रतिबन्ध लगाने वाला देश का तीसरा राज्य बन गया है। इससे पहले महाराष्ट्र और गुजरात हुक्का बार पर पहले ही प्रतिबन्ध लगा चुके हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा सिगरेट व अन्य तम्बाकू उत्पाद (विज्ञापन निषेध तथा व्यापार, उत्पादन, आपूर्ति तथा विनिमय नियम)(पंजाब संशोधन) बिल, 2018 को मंज़ूरी दिए जाने के बाद यह प्रतिबन्ध लागू किया गया। इसका उद्देश्य राज्य में तम्बाकू से होने वाले रोगों की रोकथाम करना है।

पृष्ठभूमि

इस विधेयक को पंजाब विधानसभा में मार्च, 2018 में प्रस्तुत किया गया था। इसका उद्देश्य तम्बाकू के विभिन्न प्रकार के उपयोग तथा इससे होने वाली बीमारियों पर रोक लगाना था। पंजाब में बड़े पैमाने पर इन हुक्का बार की मौजूदगी के कारण इन पर प्रतिबन्ध लगाने के निर्णय लिया गया। इसके अलावा इन हुक्का बार में नशीली दवाओं के सेवन की शिकायतें भी सरकार को प्राप्त हुई थीं।

स्वास्थ्य पर प्रभाव

हुक्का धुम्रपान करने से विषैले रसायन शरीर में प्रवेश कर जाते हैं, जिन्हें जल के द्वारा फ़िल्टर नहीं किया जाता। इससे टीबी जैसे  संक्रामक रोग होने की सम्भावना होती है। तम्बाकू के निरंतर सेवन से कैंसर भी हो सकता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

स्वास्थ्य मंत्रालय ने तम्बाकू उत्पादों पर चेतावनी लिखे जाने के लिए जारी किये नए दिशानिर्देश

केन्द्रीय स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय ने तम्बाकू उत्पादों पर चेतावनी के लिए नए दिशानिर्देश जारी किये हैं। इसके लिए सिगरेट व अन्य तम्बाकू उत्पादन (पैकेजिंग व लेबलिंग) नियम, 2008 में बदलाव किये गए हैं। नए नियम 1 सितम्बर, 2018 से लागू होंगे।

मुख्य बिंदु

नए नियमों के तहत दो नए चित्र सेट जारी किये गए हैं। पहले सेट का उपयोग 1 सितम्बर, 2018 से अगले एक वर्ष तक किया जायेगा। जबकि दूसरे सेट का उपयोग 1 सितम्बर, 2019 के लिए किया जायेगा। इसके अलावा क्विट लाइन नंबर भी पैकेज पर लिखा जायेगा, इस हेल्पलाइन नंबर पर उन लोगों को सहायता दी जाएगी जो तम्बाकू उत्पादों के सेवन को छोड़ना चाहते हैं।

नए नियमों के सम्बन्ध में तम्बाकू उद्योग को सख्ती से नियमों का पालन करने का निर्देश दिया गया है, और सभी प्रकार के तम्बाकू उत्पादों पर निश्चित की गयी चेतावनी छापी जानी अनिवार्य है। इसका उल्लंघन करने पर सिगरेट व अन्य तम्बाकू उत्पाद अधिनियम, 2003 के सेक्शन 20 के तहत दोषी व्यक्ति को सजा भी दी जाएगी।

पृष्ठभूमि

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार तम्बाकू उत्पादों पर प्रभावशाली चेतावनी का सबसे अच्छा तरीका चेतावनी युक्त चित्र हैं। इसके लिए सभी उत्पादों पर “तम्बाकू से कर्क रोग होता है” जैसी चेतावनी लाल पृष्ठभूमि पर सफ़ेद रंग से लिखी जाएगी। इसके अलावा पैकेट पर तम्बाकू छोड़ने के लिए हेल्पलाइन नंबर भी छापा जाना अनिवार्य किया गया है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , ,

Advertisement