नाटो

रैपिड ट्राईडेंट: यूक्रेन ने शुरू किया नाटो देशों के साथ संयुक्त सैन्य अभ्यास

यूक्रेन ने वार्षिक सैन्य अभ्यास ‘रैपिड ट्राईडेंट’ को लांच किया, इस अभ्यास में अमेरिका और नाटो सदस्य देश हिस्सा लेंगे। इस अभ्यास का आयोजन यूक्रेन के पश्चिमी क्षेत्र में स्तार्यिची नामक स्थान पर 2 से 15 सितम्बर, 2018 के दौरान किया जायेगा। इस अभ्यास का उद्देश्य हाइब्रिड युद्ध की स्थिति में सशस्त्र आक्रामकता का सामना करना है। इसके एक सप्ताह बाद रूस, चीन और मंगोलिया के साथ शीत युद्ध के बाद का सबसे बड़ा सैन्य अभ्यास वोस्तोक-2018 का आयोजन करने जा रहा है।

रैपिड ट्राईडेंट युधाभ्यास 2018

इस अभ्यास में बहुराष्ट्रीय व ब्रिगेड स्तरीय अभ्यास शामिल है। इसके अतिरिक्त इसमें बटालियन स्तरीय फील्ड ट्रेनिंग अभ्यास तथा प्लाटून स्तरीय परिस्थिति ट्रेनिंग अभ्यास शामिल है। इसमें यूनाइटेड किंगडम, जॉर्जिया, तुर्की, पोलैंड और  जर्मनी समेत 14 देशों के लगभग 2200 सैनिक हिस्सा लेंगे। इस अभ्यास में सुरक्षित वाहन, एविएशन यूनिट तथा 350 सैन्य उपकरणों का उपयोग किया जायेगा। इसमें पहली बार यूक्रेनियाई बोर्ड गार्ड सर्विस व नेशनल गार्ड के जवान भी हिस्सा लेंगे।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

वोस्तोक 2018 : रूस सितम्बर 2018 में करेगा सबसे बड़े युधाभ्यास का आयोजन

रूस 11-15 सितम्बर, 2018 के दौरान सबसे बड़े युद्ध अभ्यास वोस्तोक-2018 (ईस्ट-2018) का आयोजन करेगा। यह ज़ेपद-81 (वेस्ट-81) के बाद रूस का सबसे बड़ा युद्ध अभ्यास है। ज़ेपद-81 का आयोजन भूतपूर्व सोवियत संघ द्वारा 1981 में किया गया था, इस युद्ध अभ्यास में 1 लाख से 1.50 लाख सैनिकों ने हिस्सा लिया था।

वोस्तोक-18

वोस्तोक-20188 में रूसी सेना, वायुसेना और जलसेना हिस्सा लेगी। इसमें 3,00,000 सैनिक, 36,000 टैंक, सुरक्षित वाहन, 1000 से अधिक सैन्य एयरक्राफ्ट तथा दो नौसेना फ्लीट हिस्सा लेंगे। वोस्तोक-2018 में चीन और मंगोलिया भी हिस्सा लेंगे।

टिपण्णी

वोस्तोक-2018 का आयोजन नाटो व पश्चिमी देशों द्वारा रूस के प्रति आक्रामक व्यवहार के परिणामस्वरुप किया जा रहा है। 2014 में रूस द्वारा युक्रेन से क्रिमीआ के अधिग्रहण के बाद से ही नाटो और रूस के सम्बन्ध अधिक मैत्रीपूर्ण नहीं रहे हैं। इसके अलावा रूस पर अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में छेड़छाड़ करने का आरोप भी लगा था। मार्च, 2018 में पूर्व जासूस सेर्गेई स्क्रिपल और उनकी पुत्री युलिया पर यूनाइटेड किंगडम पर नर्व एजेंट द्वारा हमला किया गया था। इस सब घटनाओं के कारण रूस के सम्बन्ध पश्चिमी देशों से काफी तल्ख़ हो गए हैं। इसके अलावा नातों ने पूर्वी यूरोप में सैनिकों की तैनाती को भी बढ़ा दिया है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

Advertisement