नितिन गडकरी

जम्मू-कश्मीर में किया जायेगा 6.5 किलोमीटर लम्बी जेड-मोड़ सुरंग का निर्माण

NHIDCL (National Highways and Infrastructure Development Corporation) ने जम्मू-कश्मीर में 6.5 किलोमीटर लम्बी जेड-मोड़ टनल परियोजना APCO अमरनाथजी टनलवे प्राइवेट लिमिटेड को सौंपी, इस परियोजना की कुल लागत 2,379 करोड़ रुपये आएगी। इस परियोजना को 3.5 वर्ष में पूरा कर लिया जाएगा।

मुख्य बिंदु

इस परियोजना के लिए केन्द्रीय सड़क परिवहन व उच्चमार्ग मंत्री नितिन गडकरी की उपस्थिति में NHIDCL और APCO अमरनाथजी टनलवे ने समझौते पर हस्ताक्षर किये।

पहले यह परियोजना IL&FS (Infrastructure Leasing & Financial Services) को आबंटित की गयी थी, परन्तु वित्तीय संकट के कारण यह कार्य पूर्ण नही हो सका। बाद में इस परियोजना के लिए पुनः 24 जून, 2019 को बिड आमंत्रित की गयी थी।

जेड-मोड़ टनल परियोजना के द्वारा जम्मू-कश्मीर में सोनमर्ग (प्रसिद्ध पर्यटन स्थल) को हर मौसम में कनेक्टिविटी बनी रहेगी। शीतकाल में बर्फ़बारी के कारण इस क्षेत्र का संपर्क बाहरी दुनिया से कट जाता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

1 दिसम्बर तक फास्टैग निशुल्क दिए जायेंगे

केन्द्रीय सड़क परिवहन व उच्चमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने हाल ही में कहा है कि 1 दिसम्बर, 2019 तक फास्टैग निशुल्क दिए जायेंगे। गौरतलब है कि 1 दिसम्बर के बाद बिना फ़ास्टैग वाले वाहनों को सामान्य से दोगुना टोल वसूला जाएगा।

FASTag क्या है?

FASTag इलेक्ट्रॉनिक टोल संग्रहण प्रणाली है, इसका संचालन राष्ट्रीय उच्चमार्ग प्राधिकरण (NHAI) द्वारा किया जा रहा है। FASTag के द्वारा टोल प्लाजा में रुके बिना ही व्यक्ति के खाते से टोल चार्ज अपने आप कट जायेगा, अब टोल कर अदा करने के लिए गाड़ी रोकने की ज़रुरत नहीं पड़ेगी।

FASTag एक प्रीपेड अकाउंट से जुड़े हुए होते हैं, इसके द्वारा टोल प्लाजा से गुजरते हुए व्यक्ति के खाते से टोल अपने आप ही कट जायेगा। FASTag के लिए रेडियो-फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जा रहा है।

FASTag की विशेषताएं

  • FASTag को ग्राहक अपनी पसंद के बैंक खाते से लिंक कर सकते हैं।
  • इससे ग्राहकों को काफी सुविधा होगी।
  • FASTag एप्प की सहायता से किसी भी FASTag को रिचार्ज किया जा सकता है।
  • बाद में FASTag का उपयोग पेट्रोल पंप पर इंधन को खरीदने के लिए भी किया जा  सकता है।

रेडियो-फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन टेक्नोलॉजी (RFID)

रेडियो-फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन टेक्नोलॉजी इलेक्ट्रोमैग्नेटिक फील्ड का उपयोग करता है, यह उन टैग्स को डिटेक्ट करता है जिनमे इलेक्ट्रानिकली सूचना स्टोर की जाती है।

एक द्वि-मार्गीय रेडियो ट्रांसमीटर-रिसीवर टैग के लिए सिग्नल भेजता है तथा उसकी प्रतिक्रिया का अध्ययन करता है। RFID रीडर टैग के लिए एक एनकोडेड रेडियो सिग्नल भेजता है। टैग इस सिग्नल को रिसीव करता है तथा अपनी पहचान के साथ कुछ और सूचना को वापस भेजता है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , , , ,

Advertisement