नितिन गडकरी

भारत अपने हिस्से का पानी अब पाकिस्तान में नही बहने देगा

केन्द्रीय जल संसाधन, नदी विकास व गंगा पुनर्जीवन मंत्री नितिन गडकरी ने स्पष्ट कर दिया है कि भारत रावी, व्यास और सतलुज नदी के अपने हिस्सा ले जल का उपयोग अब स्वयं करेगा, इससे पहले भारत का यह हिस्सा पाकिस्तान में बह रहा था। यह कदम पुलवामा आतंकी हमले के बाद लिया जा रहा है, जिसमे CRPF के 42 जवान शहीद हुए थे।

यह भारत द्वारा पाकिस्तान पर आंतकवादियों पर कार्यवाही करने के लिए बनाये जा रहे दबाव का हिस्सा है। इससे पहले भारत ने पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशनल का दर्जा छीना था तथा पाकिस्तान वस्तुओं पर आयात शुल्क काफी अधिक बढ़ा दिया था।

जल का उपयोग

भारत अपने हिस्से के जल को पूर्वी नदियों (रावी, व्यास और सतलुज) से पंजाब और जम्मू-कश्मीर की ओर मोड़ देगा। भारत ने पंजाब में रावी नदी पर शाहपुर-कंडी प्रोजेक्ट में बाँध का निर्माण शुरू कर दिया है। जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में उझ प्रोजेक्ट के द्वारा जल का भण्डारण करके उसका उपयोग जम्मू-कश्मीर राज्य के लिए किया जायेगा। उझ नदी रावी की सहायक नदी है। शेष जल द्वितीय रावी-व्यास लिंक के द्वारा अन्य बेसिन राज्यों को उपलब्ध करवाया जायेगा।

भारत शाहपुर-कंडी परियोजना, सतलुज-व्यास लिंक तथा जम्मू-कश्मीर में उझ बाँध के निर्माण कार्य में तीव्रता लाएगी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

जम्मू-कश्मीर में रावी नदी के ऊपर निर्मित पुल का उद्घाटन किया गया

हाल ही में केन्द्रीय सड़क परिवहन व उच्चमार्ग तथा जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी ने जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में रावी नदी के ऊपर निर्मित 1210 मीटर लम्बे पुल का उद्घाटन किया।

मुख्य बिंदु

कीरियन-गान्दियल क्षेत्र में निर्मित यह पुल लोगों के लिए अति आवश्यक था। इस पुल का निर्माण 158.84 करोड़ रुपये की लागत से किया गया है। यह राज्य में कनेक्टिविटी को मज़बूत करने में उपयोगी सिद्ध होगा।

यह पुल जम्मू में कठुआ की दोनों ओर रहने वाले 2,20,000 लोगों के लिए काफी उपयोगी इससे। इससे कीरियन-गान्दियल के बीच की दूरी 45 किलोमीटर से घटकर 8.6 किलोमीटर रह जायेगी।

रावी नदी

रावी नदी हिमाचल प्रदेश के चंबा में बड़ा भंगाल से निकलती है। यह पीर पंजाल तथा धोलाधर पर्वत श्रृंखला से होते हुए गुज़रती है। यह माधोपुर में पंजाब में प्रवेश करती है तथा अमृतसर के बाद पाकिस्तान में प्रवेश करती है। यह पाकिस्तान के पंजाब में रंगपुर के निकाप चिनाब के साथ मिल जाती है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement