नोबेल पुरस्कार

औषधि/फिजियोलॉजी के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार के विजेताओं के नाम की घोषणा की गयी

इस बार तीन वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से औषधि/फिजियोलॉजी के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया है, यह विजेता वैज्ञानिक हैं विलियम जी. केलिन, पीटर जे. रैटक्लिफ तथा ग्रेग एल. सेमेंज़ा। विलियम जी. केलिन तथा ग्रेग एल. सेमेंज़ाअमेरिकी हैं, जबकि पीटर जे. रैटक्लिफ ब्रिटिश वैज्ञानिक हैं। इन तीनों वैज्ञानिकों को कोशिका पर किये गये खोज कार्य के लिए यह पुरस्कार दिया जा रहा है। इस खोज से यह ज्ञात होता है कि कोशिकाएं किस प्रकार अनुभव करती हैं तथा ऑक्सीजन की उपलब्धता के मुताबिक रूपांतरित होती हैं।

फिजियोलॉजी अथवा औषधि में नोबेल पुरस्कार

फिजियोलॉजी अथवा औषधि में नोबेल पुरस्कार उस व्यक्ति को दिया जाता है जिनकी खोज से औषधि अथवा जीवन की समझ में वृद्धि होती है। इसके लिए विजेताओं का चुनाव केरोलिंस्का संस्थान में नोबेल असेंबली द्वारा किया जाता है। इस पुरस्कार में विजेता को 8 मिलियन स्वीडिश क्रोनर (1.1 मिलियन डॉलर) प्रदान किये जाते हैं। प्रतिवर्ष सबसे पहले औषधि में नोबेल पुरस्कार प्रदान किया जाता है। सर्वप्रथम 1901 में औषधि में नोबेल पुरस्कार दिया गया था, यह पुरस्कार जर्मन फिजियोलॉजिस्ट एमिल वोन बेहरिंग को सीरम थेरेपी तथा डिप्थेरिया की टीके के विकास के लिए प्रदान किया गया था। गेर्टी कोरी औषधि अथवा फिजियोलॉजी में नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाली पहली महिला थीं, उन्हें 1947 में ग्लूकोस के मेटाबोलिज्म के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया था।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , , , ,

नोबेल पुरस्कार विजेता भौतिकशास्त्री मर्रे जेल-मैन का निधन हुआ

नोबेल पुरस्कार विजेता भौतिकशास्त्री मर्रे जेल-मैन का निधन न्यू मेक्सिको में 89 वर्ष की आयु में हुआ। उन्हें सब-एटॉमिक पार्टिकल्स की खोज व वर्गीकरण का श्रेय दिया जाता है।

मर्रे जेल-मैन

मर्रे जेल मैन का जन्म अमेरिका के न्यू यॉर्क में हुआ था। उन्होंने 1948 में येल विश्वविद्यालय से भौतिकशास्त्र से स्नातक की डिग्री प्राप्त की। 1951 में उन्होंने मेसाचुसेट्स इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी (MIT) से पीएचडी की। उन्हें 1959 में कणों के आधारभूत वर्गीकरण से सम्बंधित कार्य के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

उन्होंने सब-एटॉमिक पार्टिकल्स का वर्गीकरण आठ सरल समूहों में उनके घूर्णन के अनुसार किया था। उन्होंने “क्वार्क्स” से सम्बंधित सिद्धांत का विकास किया था, यह पृथ्वी के तत्त्व का अविभाज्य हिस्सा है जिससे न्यूट्रॉन, प्रोटोन तथा अन्य कणों का निर्माण होता है। बाद में भौतिकशास्त्र में किये गये प्रयोगों से “क्वार्क्स” की उपस्थति की पुष्टि हुई।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement