नौसेना

मिलन 2020 : भारतीय नौसेना द्बवारा किया जाएगा बहु-राष्ट्रीय सैन्य अभ्यास का आयोजन

भारतीय नौसेना  ‘मिलन 2020’ नामक नौसैनिक अभ्यास का आयोजन विशाखापत्तनम में करेगी। इस अभ्यास में विभिन्न देशों की नौसेनाएं हिस्सा ले रही हैं। ‘मिलन’ का पूर्ण स्वरुप  ‘Multilateral Naval Exercise’ है। इसमें बड़ी संख्या में युद्ध पोत तथा वरिष्ठ गणमान्य व्यक्ति हिस्सा लेंगे।

मिलन 2020

मिलन एक द्विपक्षीय अभ्यास है, इसकी शुरुआत 1995 में हुई थी। पिछले वर्ष तक इसका आयोजन अंडमान व निकोबार कमांड में आयोजित किया जाता है। इस बार इस अभ्यास का आयोजन ईस्टर्न नेवल कमांड में किया जायेगा। इस अभ्यास का उद्देश्य मित्र देशों के साथ नौसैनिक संबंधों को मज़बूत बनाना है।

आमंत्रित देश

इस अभ्यास में 41 देशों को आमंत्रित किया गया है, यह देश हैं : इंडोनेशिया, मालदीव, ऑस्ट्रेलिया, सोमालिया, केन्या, मोजाम्बिक, सूडान, कतर, थाईलैंड, मलेशिया, मिस्र, फ्रांस, श्रीलंका, वियतनाम, म्यांमार, न्यूजीलैंड, अमेरिका, इजरायल, तंजानिया, कोमोरोस, सेशेल्स ब्रुनेई, फिलीपींस , जापान, ब्रिटेन, मेडागास्कर, सऊदी अरब, ओमान, मॉरीशस, कंबोडिया, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, कुवैत, ईरान, रूस, जिबूती, बहरीन, संयुक्त अरब अमीरात, इरिट्रिया और बांग्लादेश।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

आज सेवानिवृत्त हो रहे हैं सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत

भारतीय थल सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत आज (31 दिसम्बर, 2019) सेवानिवृत्त हो रहे हैं। हाल ही उन्हें देश का प्रथम चीफ ऑफ़  डिफेन्स स्टाफ नियुक्त किया गया है। इससे पहले प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ पद के सृजन की घोषणा की थी। चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ तीनों बलों – भारतीय थल सेना, नौसेना तथा वायुसेना के बीच समन्वय स्थापित करेगा।

चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ का कार्य क्षेत्र

  • सेना, नौसेना और वायु सेना
  • रक्षा मंत्रालय के समन्वित मुख्यालय (सेना मुख्यालय, नौसेना मुख्यालय, वायु सेना मुख्यालय और डिफेंस स्टॉफ मुख्यालय)
  • प्रादेशिक सेना
  • सेना, नौसेना तथा वायु सेना से सम्बंधित कार्य
  • चालू नियमों और प्रक्रियाओं के अनुसार पूंजीगत प्राप्तियों को छोड़कर सेवाओं के लिए विशिष्ट खरीद
  • एकीकृत संयुक्त योजनाओं और आवश्यकताओं के माध्यम से सैन्य सेवाओं की खरीद, प्रशिक्षण और स्टॉफ की नियुक्ति की प्रक्रिया में समन्वय सुनिश्चित करना
  • सेनाओं द्वारा स्वदेश निर्मित उपकरणों के इस्तेमाल को बढ़ावा देना
  • संयुक्त संचालन के माध्यम से संसाधनों के तर्कसंगत इस्तेमाल के लिए सैन्य कमानों के पुनर्गठन और संयुक्त थिएटर कमानों के गठन की सुविधा

पृष्ठभूमि

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ पद के सृजन की घोषणा की थी। चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ तीनों बलों – भारतीय थल सेना, नौसेना तथा वायुसेना के बीच समन्वय स्थापित करेगा।

चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ (CDS)

पिछले कई वर्षों से चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ की मांग की जा रही थी, यह तीनों बलों के बीच समन्वय स्थापित करने तथा उनकी प्रभावशीलता में वृद्धि करने के लिए आवश्यक है।

चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ देश का सर्वोच्च सैन्य अधिकारी होगी, वह भारतीय सेना, वायुसेना तथा नौसेना को परामर्श प्रदान करेगा। यह अधिकारी प्रधानमंत्री और रक्षामंत्री के लिए सैन्य सलाहकार का कार्य भी करेगा।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

Advertisement