परमाणु हथियार

SIPRI ईयरबुक : भारत और चीन के परमाणु हथियार में वृद्धि हुई

15 जून, 2020 को स्वीडिश थिंक-टैंक ने SIPRI ईयरबुक, 2020 लॉन्च की। इसके अनुसार, भारत और चीन ने 2019 की तुलना में अपने परमाणु शस्त्रागार में वृद्धि की है।

मुख्य निष्कर्ष

थिंक टैंक के अनुसार चीन अपने परमाणु शस्त्रागार का आधुनिकीकरण कर रहा है। भारत की तुलना में चीन और पाकिस्तान में अधिक परमाणु वारहेड हैं।

थिंक टैंक ने निम्नलिखित को सूचीबद्ध किया है :

  • भारत के 150 परमाणु वॉर हेड हैं।
  • चीन के पास 290 और पाकिस्तान के पास लगभग 150 से 160 परमाणु वॉर हेड हैं।

भारत

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत अपने परमाणु हथियार स्टॉक  और परमाणु बुनियादी ढांचे का विस्तार कर रहा है। विमान भारत की परमाणु स्ट्राइक क्षमता का सबसे परिपक्व घटक है। भारत ने अपने विमानों को 48 परमाणु बम सौंपे हैं। भारत अपने परमाणु परीक्षण का नौसेना घटक भी विकसित कर रहा है।

चीन

थिंक टैंक का कहना है कि चीन पहली बार परमाणु त्रिकोण परीक्षण कर रहा है। इसने नई सी-बेस्ड मिसाइलें और परमाणु सक्षम विमान तैयार किए हैं। चीन ने अपनी जमीन और समुद्र आधारित बैलिस्टिक मिसाइलों को संचालित करने के लिए 240 से अधिक वॉर हेड को सौंपा है। साथ ही, चीन ने अपनी आत्मरक्षा के लिए परमाणु रणनीति अपनाई है।

SIPRI की खोज

SIPRI के अनुसार, दुनिया के नौ प्रमुख परमाणु सशस्त्र युक्त देशों में अमेरिका, ब्रिटेन, रूस, फ्रांस, भारत, पाकिस्तान, चीन, उत्तर कोरिया और इजरायल शामिल हैं। 2020 की शुरुआत में इन देशों के पास 13,400 परमाणु हथियार थे। इनमें से 3,720 परमाणु हथियारों को वर्तमान में तैनात किया गया है और 1,800 को उच्च परिचालन चेतावनी में रखा गया है।

2019 की तुलना में परमाणु हथियारों की संख्या में कमी मुख्य रूप से रूस और अमेरिका द्वारा सेवानिवृत्त परमाणु हथियारों के विघटन के कारण हुई है। अकेले अमेरिका और रूस के पास दुनिया के 90% परमाणु हथियार हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

26 सितम्बर : अंतर्राष्ट्रीय परमाणु हथियार पूर्ण उन्मूलन दिवस

26 सितम्बर को अंतर्राष्ट्रीय परमाणु हथियार पूर्ण उन्मूलन दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसका उद्देश्य वैश्विक समुदाय द्वारा परमाणु हथियार निशस्त्रीकरण के प्रति वचनबद्धता को दर्शाना है। इस दिवस का उद्देश्य लोगों व नेताओं को परमाणु हथियारों के उन्मूलन के लाभ से अवगत करवाना है।

पृष्ठभूमि

अंतर्राष्ट्रीय परमाणु हथियार पूर्ण उन्मूलन दिवस की घोषणा संयुक्त राष्ट्र महासभा ने दिसम्बर, 2013 में प्रस्ताव पारित करने के पश्चात की थी। इससे पहले 26 सितम्बर, 2013 को अमेरिका के न्यूयॉर्क में परमाणु निशस्त्रीकरण को लेकर एक उच्च स्तरीय बैठक आयोजित की गयी थी। इस दिवस का उद्देश्य  लोगों को परमाणु हथियारों के खतरों से अवगत करवाना है।

नोट : संयुक्त राष्ट्र महासभा 29 अगस्त को अंतर्राष्ट्रीय परमाणु परिक्षण निषेध दिवस के रूप में मनाती है, इसकी घोषणा 2009 में पारित 64/35 प्रस्ताव के तहत की गयी थी

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

Advertisement