पिनिनफ़रीना

FAME II स्कीम तथा उर्जा आवश्यकता

केंद्र सरकार ने FAME-II योजना को देश में विद्युत् तथा हाइब्रिड वाहनों को बढ़ावा देने के लिए लांच किया था। भारतीय उद्योग संघ ने इस योजना के बारे में निम्नलिखित पर्यवेक्षण किये हैं :

मुख्य बिंदु

  • विद्युत्, साझा तथा कनेक्टेड परिवहन से भारत की सड़क-आधारित उर्जा मांग में 64% तथा 2030 तक कार्बन उत्सर्जन में 37% की बचत होगी।
  • उर्जा मांग में कमी के कारण 156 मिलियन टन डीजल तथा पेट्रोल उपभोग में कमी आएगी। इससे 2030 में 60 अरब डॉलर की बचत होगी।
  • इस योजना से 2022 तक 10% तेल आयात में कमी आएगी।
  • भारत में विद्युत् वाहन केवल 1% है, 2030 तक विद्युत् वाहनों की संख्या 30% करने के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए FAME योजना पर्याप्त नहीं है।
  • देश में विद्युत् वाहनों को बढ़ावा देने के लिए भारत में विद्युत् वाहन, कॉम्पोनेन्ट तथा बैटरी  के निर्माण को बढ़ावा दिए जाने की ज़रुरत है।
  • भारत में परिवहन सेक्टर तेल का सर्वाधिक उपयोग करता है। पिछले 10 वर्षों में डीजल की मांग में 5.9% तथा पेट्रोल की मांग में 9.9% की वृद्धि हुई है।

FAME II

कैबिनेट मामलों की आर्थिक समिति ने FAME (Faster Adoption & Manufacturing of Electric (and hybrid) Vehicles) योजना के दूसरे संस्करण को मंज़ूरी दी है। इसके लिए 2022 तक के लिए 10,000 करोड़ रुपये मंज़ूर किये गये हैं।

मुख्य बिंदु

  • इसका उद्देश्य देश में विद्युत् तथा हाइब्रिड वाहनों के निर्माण व उपयोग को बढ़ावा देना है, इसके लिए देश में इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए चार्जिंग स्टेशन स्थापित किये जायेंगे।
  • FAME II योजना के द्वारा सार्वजनिक परिवहन के विद्युतीकरण पर बल दिया जायेगा।
  • इस योजना के तहत बिजली से चलनी वाली बसों के चलन को बढ़ावा दिया जायेगा।
  • 3 व्हीलर तथा 4 व्हीलर सेगमेंट में सार्वजनिक परिवहन के लिए उपयोग तथा वाणिज्यिक उपयोग के लिए किये जाने वाले वाहनों को इंसेंटिव दिया जायेगा।
  • जबकि 2-व्हीलर सेगमेंट में निजी वाहनों पर फोकस किया जायेगा।
  • इस योजना के तहत 10 लाख इलेक्ट्रिक दुपहिया वाहन, 5 लाख तिपहिया वाहन, 5500 4 व्हीलर तथा 7000 बसों के लिए सहायता प्रदान की जायेगी।
  • इस योजना के लाभ केवल उन वाहनों को मिलेंगे जिनमे एडवांस्ड बट्टर जैसे लिथियम आयन बैटरी तथा अन्य नवीन तकनीक वाली बैटरी लगी होगी।
  • इस योजना के तहत देश में 2700 चार्जिंग स्टेशन की स्थापना की जायेगी। योजना के अनुसार प्रत्येक 3 किलोमीटर x 3 किलोमीटर के ग्रिड में कम से कम एक चार्जिंग स्टेशन होना चाहिए।
  • FAME II योजना FAME India I का विस्तृत स्वरुप है, इस योजना को पहली बार 1 अप्रैल, 2015 को लांच किया गया था।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

भारतीय स्वामित्व वाली इतालवी कंपनी पिनिनफ़रीना ने लांच की विश्व की सबसे तेज़ इलेक्ट्रिक कार

भारतीय स्वामित्व वाली इतालवी कंपनी पिनिनफ़रीना ने विश्व की सबसे तेज़ इलेक्ट्रिक कार लांच की है, इस कार को “बतिस्ता” नाम दिया गया है। इस कार की इलेक्ट्रिक मोटर 1900 हार्सपावर का बल उत्पन्न कर सकती है। यह कार दो सेकंड से कम समय में 60 मील प्रति घंटा (97 किलोमीटर प्रतिघंटा) की रफ़्तार पकड़ सकती है। इस कार की अधिकतम गति 349 किलोमीटर प्रति घंटा है। टेस्ला की मॉडल S कार 257 किलोमीटर की अधिकतम गति प्राप्त कर सकती है। यह कार बिजली से चलती है, इसलिए यह पर्यावरण हितेषी भी है। गौरतलब है कि पिनिनफ़रीना “बतिस्ता’ की केवल 150 इकाइयां ही निर्मित करेगी। इस कार की कीमत लगभग 2.5 मिलियन डॉलर (17 करोड़ रूपए)  है।

रोचक तथ्य : पिनिनफ़रीना को भारतीय कंपनी महिंद्रा ने 14 दिसम्बर, 2015 को खरीदा था अर्थात पिनिनफ़रीना भारतीय स्वामित्व वाली कंपनी है।

पिनिनफ़रीना

पिनिनफ़रीना भारतीय स्वामित्व वाली इतालवी कंपनी कार डिजाईन कंपनी है, इसका मुख्यालय इटली के तूरिन में स्थित है। इस कंपनी की स्थापना 19 30 में बतिस्ता पिनिनफ़रीना ने की थी। 14 दिसम्बर, 2015 को महिंद्रा समूह ने इस कंपनी को लगभग 168 मिलियन यूरो में खरीदा।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

Advertisement