पियुष गोयल

भारतीय रेलवे ने समेकित ब्रिज प्रबंधन प्रणाली की शुरुआत की

भारतीय रेलवे ने अपनी पहली समेकित ब्रिज प्रबंधन प्रणाली (IR-BMS, Indian Railways-Bridge Management System) की शुरुआत की, जो एक लाख पचास हजार रेलवे पुलों से संबंधित आंकड़ों का संग्रह करने के लिए एक वेब-सक्षम आईटी एप्लीकेशन है.

भारतीय रेलवे-ब्रिज प्रबंधन प्रणाली (IR-BMS)

आईआर-बीएमएस का उद्देश्य अपने पुलों के बारे में विभिन्न गतिविधियों से संबंधित जानकारी का सार्थक आकलन, विश्लेषण और प्रसार करना है. यह वेब-आधारित प्लेटफार्म है जो ब्रिज मास्टर डेटा, डेटा का काम, निरीक्षण और पुलों और अन्य आवश्यकताओं के निरीक्षण और रखरखाव के बारे में जानकारी दिखाएगा. इसे रेलवे ट्रैक पर एक ब्रिज के गिरने के कुछ दिन बाद केंद्रीय रेल मंत्री पियुष गोयल द्वारा लॉन्च किया था. इस एप के माध्यम से पुलों की क्षमता और कार्य से जुड़े विभिन्न आंकड़े तथा रखरखाव संबंधी सूचना तथा अन्‍य जरूरी बातें भी प्रदर्शित की जाएंगी. हाल ही में रेल मंत्री पीयुष गोयल ने रेलवे स्‍टेशनों की सौंदर्यकरण प्रतियोगिता के पुरस्‍कार भी वितरित किए है.

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , ,

सरकार ने 5000 वाई-फाई चौपाल लॉन्च किए

केंद्रीय सेवा एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeITY) ने सामान्य सेवा केंद्रों (CSC) के साथ साझेदारी में गांवों में 5000 वाई-फाई चौपाल लॉन्च किए. केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद और रेल मंत्री पियुष गोयल ने संयुक्त रूप से नई दिल्ली में इसका उद्घाटन किया.

वाई-फाई चौपाल

वाई-फाई चौपाल का उद्देश्य भारतनेट के माध्यम से ग्रामीण इंटरनेट कनेक्टिविटी को बदलना है. यह सेवा ग्रामीण वाई-फाई ढांचे के विकास और किफायती लागत पर विभिन्न आईसीटी सेवाएं प्रदान करने पर केंद्रित हैं. इस सेवा के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में 60,000 वाईफाई हॉटस्पॉट प्रदान किए जाएंगे ताकि लोगों को अपनी विभिन्न डिजिटल प्रक्रियाओं के लिए प्रभावी इंटरनेट पहुंच प्रदान की जा सके. वाई-फाई चौपाल भारतनेट के तहत ऑप्टिकल फाइबर केबल की सहायता से 2.5 लाख ग्राम पंचायतों को इंटरनेट से जोड़ने के लिए लक्षित है.

भारतनेट

भारतनेट केंद्र सरकार का ग्रामीण इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रोग्राम है, जिसे भारत ब्रॉडबैंड नेटवर्क लिमिटेड (बीबीएनएल) द्वारा कार्यान्वित किया जाता है. यह ऑप्टिकल फाइबर का उपयोग करने वाला दुनिया का सबसे बड़ा ग्रामीण ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी प्रोग्राम है. यह भारत के सभी घरों, विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों को मांग के माध्यम से, डिजिटल भारत के दृष्टिकोण को समझने के लिए 2 Mbps से 20 Mbps की किफायती ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी को जोड़ना चाहता है. इस परियोजना को यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फंड (यूएसओएफ) द्वारा वित्त पोषित किया जा रहा है.

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

Advertisement