बांग्लादेश

बांग्लादेश में सरकारी नौकरियों में आरक्षण खत्म

बांग्लादेश में सरकारी नौकरियों में आरक्षण खत्म करने की बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने घोषणा की है। वर्तमान में सरकारी क्षेत्र में 56% सीटें आरक्षित हैं। आरक्षण खत्म करने को लेकर हज़ारों प्रदर्शनकारियों द्वारा किए जा रहे प्रदर्शनों के बीच यह घोषणा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि विभिन्न समूहों के लिए विशेष प्रावधान किए जाएंगे।

पृष्ठभूमि

11 अप्रैल को बांग्लादेश के विभिन्न शहरों के विश्वविद्यालयों के छात्रों ने पूरे देश में विरोध प्रदर्शन किया। लगभग एक दशक से देश की सत्ता पर काबिज प्रधानमंत्री शेख हसीना के लिए यह सबसे बड़ा प्रदर्शन था। सरकारी नौकरियों से संबंधित एक विवादित नीति के खिलाफ छात्र विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। विशेष समूह के लिए इस नीति के तहत सरकारी नौकरियों में विशेष प्रावधान रखा गया है। ढाका में प्रदर्शनकारी छात्रों ने मुख्य सड़कों को जाम कर दिया और बड़ी तादाद में ढाका विश्वविद्यालय की तरफ बढ़े। इससे राजधानी में यातायात व्यवस्था चरमरा गयी।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

बिप्लव कुमार देव

त्रिपुरा के अगले मुख्यमंत्री के रूप में बिप्लव कुमार देव के नाम का एलान कर दिया गया है. घोषणा राज्य के पर्यवेक्षक व केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने आज अगरतल्ला में की है. उनके साथ विप्लव कुमार देव मौजूद थे. 48 वर्षीय बिप्लव कुमार देव वर्तमान में त्रिपुरा भाजपा के अध्यक्ष रहे हैं उन्होंने पहली बार इसी साल चुनाव लड़ा और सीधे राज्य के शीर्ष पद तक पहुंच गये. ये राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं भारतीय जनता पार्टी की कार्यनीति का ही कमाल है कि शून्य संसदीय अनुभव वाला व्यक्ति और आम कार्यकर्ता रहा शख्स भी सीधे शीर्ष पद पर पहुंच जाये.

बिप्लव कुमार देव शुरू से ही राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़े रहे हैं उन्होंने सतना के भाजपा सांसद गणेश सिंह के निजी सचिव के रूप में 10 सालों तक काम किया. वे संघ परिवार के जानेमाने विचारक रहे गोविंदाचार्य से भी जुड़े रहे हैं और उनकी प्रेरणा से संगठन के लिए काम भी करते रहे हैं. बिल्पव कुमार देव को एक नेता के रूप में स्थापित करने में त्रिपुरा के सुनील देवधर का बड़ा योगदान है. देवघर मुख्य रणनीतिकार थे.

बिप्लव कुमार देव का जन्म काकराबन, उदयपुर में हुआ जो वर्त्तमान में गोमती जिला है. उनके माता-पिता का संबंध बांग्लादेश के चांदपुर के कचुया उपजिला से है. वे प्रदेश के दसवें मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं. एक भारतीय राज्य के उनके मुख्यमंत्री बनने के सफर के बारे में बांग्लादेश के अखबार ढाका ट्रिब्यून ने उन पर स्टोरी लिखी है कि उनका रिश्ता किस तरह बांग्लादेश से रहा है. खबर के अनुसार, उनके पिता हिरूधन देव और माता मीना रानी देव 1971 के बांग्लादेश मुक्ति संघर्ष के समय बांग्लादेश से विस्थापित होकर भारत चले गये थे. उनका रिश्ता बांग्लादेश के मेघडेर गांव से रहा है.

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement