बी.एस. धनोआ

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने चीफ्स ऑफ़ स्टाफ कमिटी की कमान संभाली

भारतीय सेना के प्रमुख जनरल बिपिन रावत चीफ्स ऑफ़ स्टाफ कमिटी के चेयरमैन बन गये हैं। उन्हें वायुसेना के एयर चीफ मार्शल बी.एस. धनोआ के स्थान पर नियुक्त किया गया है। बी.एस धनोआ 30 सितम्बर, 2019 को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। बी.एस. धनोआ को 31 मई, 2019 को चीफ्स ऑफ़ स्टाफ कमिटी का चेयरमैन नियुक्त किया गया था।

मुख्य बिंदु

मौजूदा समय में सबसे वरिष्ठ प्रमुख को  चीफ्स ऑफ़ स्टाफ कमिटी का चेयरमैन नियुक्त किया जाता है। एयर चीफ मार्शल बी.एस. धनोआ की सेवानिवृत्ति के बाद जनरल रावत सबसे वरिष्ठ प्रमुख बन जायेंगे।

चीफ्स ऑफ़ स्टाफ कमिटी में थलसेना, भारतीय नौसेना तथा भारतीय वायुसेना के प्रमुख शामिल होते हैं, इनमे से सबसे वरिष्ठ सदस्य को समिति का चेयरमैन नियुक्त किया जाता है। चीफ्स ऑफ़ स्टाफ कमिटी के चेयरमैन के पास तीनों सेनाओं (थलसेना, नौसेना और वायुसेना) के बीच समन्वय व तालमेल स्थापित करने की ज़िम्मेदारी होती है।

पृष्ठभूमि

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ पद के सृजन की घोषणा की थी। चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ तीनों बलों – भारतीय थल सेना, नौसेना तथा वायुसेना के बीच समन्वय स्थापित करेगा। चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ देश का सर्वोच्च सैन्य अधिकारी होगा, वह भारतीय सेना, वायुसेना तथा नौसेना को परामर्श प्रदान करेगा। यह अधिकारी प्रधानमंत्री और रक्षामंत्री के लिए सैन्य सलाहकार का कार्य भी करेगा। पिछले कई वर्षों से चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ की मांग की जा रही थी, यह तीनों बलों के बीच समन्वय स्थापित करने तथा उनकी प्रभावशीलता में वृद्धि करने के लिए आवश्यक है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

वायुसेना में आठ AH-64E अपाचे हेलिकॉप्टर शामिल किये गये

भारतीय वायुसेना में अमेरिकी एयरोस्पेस कंपनी बोइंग द्वारा निर्मित आठ अपाचे हेलिकॉप्टर शामिल किये गये। इसके लिए पठानकोट एयरबेस में एक समारोह का आयोजन किया गया,  इस समारोह में एयर चीफ मार्शल बी.एस. धनोआ मुख्य अतिथि थे।

यह हेलिकॉप्टर विश्व का सबसे घातक अटैक हेलिकॉप्टर माना जाता है। अपाचे हेलिकॉप्टर Mi-35 हेलिकॉप्टर का स्थान लेंगे, यह हेलिकॉप्टर को भारत के पश्चिमी क्षेत्र में तैनात किया जायेंगे।

मुख्य बिंदु

मार्च, 2020 तक भारतीय वायुसेना में 22 अपाचे हेलिकॉप्टर शामिल हो जायेंगे, इसके लिए भारत ने सितम्बर, 2015 में अमेरिका के साथ 13,952 करोड़ रुपये के सौदे पर हस्ताक्षर किये थे।

गौरतलब है कि इन हेलिकॉप्टर को ऑपरेट करने के लिए भारतीय वायुसेना के चयनित रेव ने अमेरिका के अलबामा में अमेरिकी सेना के बेस में प्रशिक्षण प्राप्त किया है। भारतीय वायुसेना में अपाचे हेलिकॉप्टर को शामिल करना इसके हेलिकॉप्टर के आधुनिकीकरण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

AH-64E अपाचे हेलिकॉप्टर एक मल्टी-रोल अटैक हेलिकॉप्टर है, इसका उपयोग अमेरिकी सेना द्वारा किया जाता है। इस हेलीकाप्टर में हवा से हवा में मार कर सकने वाली स्टिंगर मिसाइल, हेलफायर लॉन्गबो एयर-टू-ग्राउंड मिशन, गन तथा राकेट उपयोग किये जा सकते हैं।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement