भारतनेट प्रोजेक्ट

2020 तक सभी गाँवों तक निशुल्क वाई-फाई सेवा उपलब्ध करवाई जाएगी

25 दिसम्बर, 2019 को केन्द्रीय दूरसंचार व आईटी मंत्री श्री रवि शंकर प्रसाद ने ‘डिजिटल विलेज गुरुद्वारा’ लांच किया। इस दौरान दूरसंचार मंत्री ने मार्च, 2020 तक सभी गाँवों तक निशुल्क वाई-फाई उपलब्ध करवाने के लिए प्रतिबद्धता ज़ाहिर की।

मुख्य बिंदु

भारत सरकार अब तक 1,30,000 ग्राम पंचायतों को भारतनेट से जोड़ चुकी है। अब केवल 50,000 गाँवों को कनेक्ट करना शेष है। भारतनेट परियोजना के तहत निशुल्क वाई-फाई सेवा की घोषणा की गयी थी।

भारत सरकार ने जून, 2018 में देश की सभी ग्राम पंचायतों को ब्रॉडबैंड से जोड़ने की घोषणा की थी।

भारतनेट

भारतनेट केंद्र सरकार का ग्रामीण इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रोग्राम है, जिसे भारत ब्रॉडबैंड नेटवर्क लिमिटेड (बीबीएनएल) द्वारा कार्यान्वित किया जाता है। यह ऑप्टिकल फाइबर का उपयोग करने वाला दुनिया का सबसे बड़ा ग्रामीण ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी प्रोग्राम है. यह भारत के सभी घरों, विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों को मांग के माध्यम से, डिजिटल भारत के दृष्टिकोण को समझने के लिए 2 Mbps से 20 Mbps की किफायती ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी को जोड़ना चाहता है। इस परियोजना को यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फंड (यूएसओएफ) द्वारा वित्त पोषित किया जा रहा है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , ,

मार्च, 2020 तक सभी पंचायतों को ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी उपलध करवाई जाएगी : केंद्र

केन्द्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने लोकसभा में लिखित में जवाब में स्पष्ट किया है कि मार्च, 2020 को सभी पंचायतों को भारतनेट के तहत ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी उपलब्ध करवाई जाएगी।

सरकार के अनुसार अब तक 1,28,870 पंचायतों को भारतनेट प्रोजेक्ट के तहत ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ा जा चुका है। भारतनेट प्रोजेक्ट के पहले चरण के तहत 1 लाख ग्राम पंचायतों को जोड़ा जा चुका है, भारतनेट का दूसरा चरण जारी है। मार्च, 2020 तक 2 लाख ग्राम पंचायतों को ब्रॉडबैंड से जोड़ा जायेगा।

भारतनेट

भारतनेट केंद्र सरकार का ग्रामीण इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रोग्राम है, जिसे भारत ब्रॉडबैंड नेटवर्क लिमिटेड (बीबीएनएल) द्वारा कार्यान्वित किया जाता है। यह ऑप्टिकल फाइबर का उपयोग करने वाला दुनिया का सबसे बड़ा ग्रामीण ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी प्रोग्राम है. यह भारत के सभी घरों, विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों को मांग के माध्यम से, डिजिटल भारत के दृष्टिकोण को समझने के लिए 2 Mbps से 20 Mbps की किफायती ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी को जोड़ना चाहता है। इस परियोजना को यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फंड (यूएसओएफ) द्वारा वित्त पोषित किया जा रहा है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , ,

Advertisement