भारतीय अर्थव्यवस्था

भारत की वृद्धि दर 1.5% से 2.8% रहने की उम्मीद है : विश्व बैंक

विश्व बैंक ने हाल ही में ‘साउथ एशिया इकोनॉमिक फोकस’ नाम से अपनी द्वि-वार्षिक रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट में दक्षिण एशियाई क्षेत्र के आठ देशों की आर्थिक वृद्धि दर्ज में गिरावट आने का आसार व्यक्त किये हैं।

मुख्य बिंदु

इस रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि भारत में इस वित्तीय वर्ष में 1.5% -2.8% की वृद्धि होगी, जो 1991 में लागू उदारीकरण नीतियों के बाद से सबसे खराब आर्थिक चरण होगा।

मूडीज ने पहले भारत की वृद्धि 2.5% रहने की भविष्यवाणी की थी। फिच रेटिंग ने भारत की विकास दर 2% तय कीहै। एशियाई विकास बैंक ने भारत की विकास दर 4% रहने का अनुमान लगाया है।

सुझाव

विश्व बैंक देश के प्रत्येक नागरिक को भोजन उपलब्ध कराने पर ध्यान केंद्रित करने का सुझाव दिया है। इसके अलावा विश्व बैंक ने अस्थायी नौकरी कार्यक्रमों की सिफारिश की है। विश्व बैंक ने भारत को विशेषकर छोटे और मध्यम उद्यमों में दिवालिया होने से बचाने के लिए उपयुक्त उपाय करने की भी सिफारिश की है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

फिच रेटिंग्स ने 2020-21 के लिए भारत की विकास दर के अनुमान को 5.1% से घटाकर 2% किया

फिच रेटिंग्स ने भारत के वित्त वर्ष 2020-21 के लिए भारत की विकास दर के अनुमान को 2% कर दिया है। पहले फिच रेटिंग्स ने वित्त वर्ष 2020-21 में विकास दर 5.1% रहने का अनुमान लगाया था। इसका मुख्य कारण कोरोनावायरस प्रकोप के कारण धीमी आर्थिक गतिविधियाँ है।

फिच रेटिंग्स

फिच रेटिंग्स विश्व की तीन सबसे बड़ी रेटिंग एजेंसियों में से एक है, अन्य दो प्रमुख एजेंसियां मूड़ीज़ और स्टैण्डर्ड एंड पूअर्स हैं। इसका मुख्यालय अमेरिका के न्यूयॉर्क में स्थित है। इसका पूर्व स्वामित्व हेअर्स्ट कारपोरेशन के पास है। क्रेडिट रेटिंग एजेंसी एक किस्म की कंपनी होती है जो क्रेडिट रेटिंग प्रदान करती है। यह ऋणी द्वारा समय पर ऋण के भुगतान अथवा डिफ़ॉल्ट की सम्भावना की योग्यता का अनुमान लगाती है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , , , ,

Advertisement