भारतीय वायुसेना

37 एयरफ़ील्ड्स को आधुनिक बनाने के लिए रक्षा मंत्रालय ने टाटा पॉवर के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किये

8 मई, 2020 को रक्षा मंत्रालय ने टाटा पॉवर SED के साथ भारतीय वायु सेना की 37 एयर फील्ड के बुनियादी ढांचे के आधुनिकीकरण के लिए एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किए। इस परियोजना की लागत लगभग 1,200 करोड़ रुपये है।

योजना

एयरफील्ड अधोसंरचना के आधुनिकीकरण के चरण-1 के तहत, भारतीय वायु सेना के एयरफील्ड को अपग्रेड किया गया था। इस कार्यक्रम के चरण-2 के तहत अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए हैं। फेज -2 के तहत नेविगेशनल एड्स और इंफ्रास्ट्रक्चर को अपग्रेड किया जायेगा।

दूसरे चरण में आधुनिक एयरफील्ड उपकरणों की स्थापना और कमीशनिंग जैसे कि कैट-II इंस्ट्रूमेंट लैंडिंग सिस्टम और एयर फील्ड लाइटिंग सिस्टम शामिल हैं।

आधुनिक उपकरणों को सीधे एयर ट्रैफिक कंट्रोल से जोड़ा जायेगा। यह एयरफील्ड सिस्टम का उत्कृष्ट नियंत्रण प्रदान करेगा।

एयरफील्ड इन्फ्रास्ट्रक्चर का आधुनिकीकरण

इस परियोजना के तहत भटिंडा में पहली आधुनिक हवाई क्षेत्र प्रणाली स्थापित की गई थी। यह परियोजना 2,500 करोड़ रुपये की थी। प्रथम चरण के तहत, लगभग 30 हवाई अड्डों का आधुनिकीकरण किया गया था। इस योजना पर 2011 में 1,219 करोड़ रुपये की कुल लागत पर हस्ताक्षर किये गये थे।

चरण-I के लिए भी TATA समूह के साथ भी अनुबंध किया गया था। प्रथम चरण के तहत, दूरी मापने के उपकरण, स्वचालित हवाई यातायात प्रबंधन प्रणाली, ओमनी-डायरेक्शनल रेडियो रेंज और तकनीकी हवाई नेविगेशन को लागू किया गया।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

बालाकोट एयरस्ट्राइक को एक वर्ष पूरा हुआ

26 फरवरी, 2020 को बालाकोट एयरस्ट्राइक का एक वर्ष पूरा हुआ। इस एयरस्ट्राइक में भारत ने बालाकोट में आतंकी शिविरों को नष्ट किया था।

पृष्ठभूमि

भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में 26 फरवरी को की गयी एयरस्ट्राइक को “ऑपरेशन बन्दर” कोडनेम दिया था। भारतीय वायुसेना 26 फरवरी की सुबह लगभग 3:30 पर पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी ठिकानों पर हमला किया। इस कारवाई के लिए भारतीय वायुसेना के 12 मिराज 2000 लड़ाकू विमानों का उपयोग किया गया। इस कारवाई में भारतीय वायुसेना ने 1000 किलोग्राम विस्फोटक का उपयोग किया। इस हमले में बड़ी संख्या में आतंकियों के मारे जाने का अनुमान लगाया गया।

पुलवामा आतंकवादी हमला

14 फरवरी, 2019 को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में CRPF के जवानों पर आतंकी हमला किया गया, इस हमले में CRPF के 42 जवान शहीद हुए। इस हमले की ज़िम्मेदारी इस्लामिक चरमपंथी संगठन जैश-ए-मुहम्मद ने ली थी। इस दौरान सैनिक बस में यात्रा कर रहे थे। इस पर सवाल उठाये गये थे कि सैनिकों हवाई मार्ग से यात्रा की अनुमति क्यों नहीं दी गयी जब सड़क मार्ग से यात्रा करने में खतरा है।

आप इन अपडेट्स को करेंट अफेयर्स टूड़े मोबाइल एप्प में भी पढ़ सकते हैं।

Categories:

Month:

Tags: , , , , ,

Advertisement